जयपुर : अभी आमजन के लिए बंद ही रहेंगे प्रदेश के इन बड़े मंदिरों के द्वार

Smart News Team, Last updated: 07/09/2020 01:06 PM IST
  • जयपुर सहित प्रदेश के कई बड़े धार्मिक स्थलों के प्रबंधन ने आज से धार्मिक स्थल नहीं खोलने का निर्णय लिया. हालात की समीक्षा के बाद ही लिया जाएगा निर्णय.
गोविंद देव जी मंदिर

राजस्थान सरकार ने करीब छह महीने से बंद पड़े धार्मिक स्थलों को 7 सितम्बर से खोलने का भले ही निर्णय ले लिया हो, लेकिन जयपुर सहित प्रदेश के कई बड़े धार्मिक स्थलों के प्रबंधन ने 7 सितम्बर से धार्मिक स्थल नहीं खोलने का निर्णय लिया है. हालांकि सोमवार से प्रदेश के ज्यादातर धार्मिक स्थल सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन के अनुसार आमजन के लिए खोले जा सकेंगे. खोले गए धार्मिक स्थलों पर मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा. गाइडलाइन की पालना नहीं होने पर पुलिस अधिकारी धार्मिक स्थल को बंद करवा सकेंगे.

वहीं, आराध्य गोविन्ददेव जी मंदिर के प्रबंधक मानस गोस्वामी ने गाइडलाइन आने से पहले ही जिला कलक्टर को पत्र लिखकर गाइडलाइन की पालना कराने में असमर्थता जताते हुए 30 सितम्बर तक श्रद्धालुओं के लिए मंदिर नहीं खोलने का अपना निर्णय बता दिया था. गलता तीर्थ व उसके अधीन मंदिरों के पट भी आमजन के लिए 7 सितम्बर को नहीं खुलेंगे. पीठ के युवाचार्य स्वामी राघवेन्द्र ने बताया कि लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए फिलहाल गलता तीर्थ व इसके अधीन मंदिरों को श्रद्धालुओं के लिए बंद रखा जाएगा.

पांच महीने से बंद मोती डूंगरी गणेशजी के दर्शन 18 सितम्बर से हो सकेंगे. मंदिर के महंत कैलाश शर्मा ने बताया कि सुबह 7 बजे पंचामृत अभिषेक के बाद दर्शनार्थियों के लिए पट खुलेंगे। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए 6 फीट की दूरी पर गोले बनाए गए हैं. आयुर्वेदिक सेनेटाइजर भी तैयार करवाया गया है.

क्वींस रोड स्थित झाड़खंड महादेव मंदिर भी 7 सितम्बर को नहीं खुलेगा. श्री बब्बू सेठ मेमोरियल ट्रस्ट के अध्यक्ष जयप्रकाश सोमानी का कहना है कि 25 सितम्बर को हालात की समीक्षा करने के बाद ही कोई निर्णय किया जाएगा. यदि कोरोना काबू में रहा तो 30 सितंबर के बाद मंदिर को खोला जाएगा.'

वैशालीनगर स्थित स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर प्रबंधन ने 30 सितम्बर तक श्रद्धालुओं के लिए पट बंद रखने का निर्णय लिया है. गोनेर के लक्ष्मीजगदीश मंदिर के महंत हनुमानदास की अध्यक्षता में हुई मंदिर की बैठक में 20 सितम्बर के बाद मंदिर खोलने का फैसला लिया गया है. वहीं इस्कॉन मंदिर, सालासर बालाजी, जीणमाता मंदिर, खाटु श्यामजी सहित कई मंदिर 30 सितम्बर के बाद ही खुलेंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें