जयपुर: अखिल भारतीय एवं राज्य सेवा में दो दिन, अन्य कार्मिकों का कटेगा वेतन

Smart News Team, Last updated: Wed, 9th Sep 2020, 1:35 PM IST
  • कर्मचारी संगठनों के विरोध के बावजूद सरकार ने जारी किए आदेश मंत्रिमंडल ने 3 अक्टूबर को किया था निर्णय
प्रतीकात्मक तस्वीर 

जयपुर। कर्मचारी संगठनों के विरोध और आंदोलन की चेतावनी के बीच सरकार ने अखिरकार सरकारी कार्मिकों की तनख्वाह से कटौती के आदेश जारी कर दिए. अखिल भारतीय एवं राज्य सेवा कर्मचारियों का 2 दिन का वेतन काटा जाएगा जबकि अन्य कर्मचारियों के वेतन से सिर्फ 1 दिन के वेतन की कटौती होगी. यह कटौती अक्टूबर में मिलने वाले सितंबर माह के सकल वेतन से की जाएगी.

वित्त विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार अखिल भारतीय सेवा, केन्द्र सेवा और राज्य सेवा के सभी नियमित एवं प्रशिक्षु अधिकारियों की दो दिन की वेतन कटौती की जाएगी. जबकि राज्य के अन्य नियमित एवं प्रशिक्षु अधिकारी व अन्य सभी कार्मिकों के वेतन से एक दिन की कटौती की जाएगी. विभाग ने स्पष्ट किया है कि यह आदेश राज्य के सभी निगम, बोर्ड, आयोग, स्वायत्तशासी संस्थाओं, उपक्रम, सहकारी समिति आदि पर भी लागू होगा.

राज्य मंत्रिमंडल ने हाल ही हुई बैठक में कोविड संक्रमितों की सहायता के लिए वेतन कटौती का निर्णय किया था. इसके बाद से ही लगातार विभिन्न कर्मचारी महासंघों ने इसका विरोध जताया था. आंदोलन के लिए कर्मचारी संगठनों ने सरकार को नोटिस तक दे दिए थे लेकिन सरकार का निर्णय नहीं बदला.

कर्मचारी संगठनों द्वारा लगातार सरकार को चेतावनी दी जा रही थी. साथ ही वेतन कटौती को लेकर कई बार प्रदर्शन व आंदोलन भी किए गये लेकिन सरकार ने अपने फैसले में कोई बदलाव नहीं किया. संक्रमण काल में आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए यह निर्णय लिया. इससे संक्रमित मरीजों के इलाज में और बेहतर सुविधा प्रदान की जा सकेगी.

इन पर वेतन कटौती लागू नहीं

यह कटौती प्रस्ताव राजस्थान उच्च न्यायालय एवं अधीनस्थ न्यायालयों के न्यायाधीशों तथा अधिकारियों एवं कार्मिकों, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं, चिकित्सा शिक्षा विभाग के सभी अधिकारियों एवं कार्मिकों, पुलिस कॉन्स्टेबल तथा एल-1 से एल-4 के वेतनमान में कार्यरत राज्य सरकार के समस्त कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा. यानी इन कर्मचारियों के वेतन से किसी भी प्रकार की कोई कटौती नहीं की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें