जयपुर: पूर्व उपमुख्यमंत्री सहित दो पूर्व मंत्रियों को खाली करना होगा बंगला!

Smart News Team, Last updated: 15/09/2020 09:52 AM IST
  • राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट, पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीना को खाली करना पड़ेगा बंगला, नहीं तो 10 हजार रूपए प्रतिदिन देना पड़ेगा जुर्माना.
सचिन पायलट

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट, पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीना को खाली करना पड़ेगा बंगला, नहीं तो 10 हजार रूपए प्रतिदिन देना पड़ेगा जुर्माना.

स्टोरी- जयपुर की सियासत में आज नया पन्ना शुरू हो गया है. कांग्रेस की गहलोत सरकार में बीते दिनों पूरे एक महीने चले सियासी संग्राम का डैमेज, कंट्रोल होने के बाद आज फिर से एक नोटिस को लेकर सियासी बवंडर खड़ा होता नजर आ रहा है.

दरअसल सरकारी बंगले काे लेकर प्रदेश की सियासत में एक बार फिर से चर्चा शुरू हाे गई है. पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट, पूर्व कैबिनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह व रमेश मीणा के सरकारी बंगले खाली करने की मियाद 14 सितंबर को पूरी हो गई है. अब इन बंगलों को खाली करना पड़ेगा. बंगला खाली नहीं करने तक 10 हजार रुपए प्रतिदिन का जुर्माना भी देना पड़ेगा.

आपकों बता दे कि अब ये तीनोंं सिर्फ विधायक हैं और विधानसभा के विधायक आवासों में ही रह सकते हैं. तीनों नेताओं को 14 जुलाई को बर्खास्त किया गया था. नियमानुसार अब वे सामान्य प्रशासन विभाग के बंगलों में नहीं रह सकते क्योंकि ये बंगले सिर्फ मंत्रियों के लिए ही आवंटित किए जाते हैं.

जिसमें पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट व पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह के बंगले सिविल लाइंस में व रमेश मीणा का बंगला गांधी नगर में स्थित है.

हालांकि राज्य सरकार ने ऐसे ही एक मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता वसुंधरा राजे को राहत देने के लिए उनके बंगले समेत चार बंगलों को सामान्य प्रशासन विभाग से विधानसभा के पूल में डाल चुकी है और हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद सरकार ने यह बंगला खाली नहीं करवाया था.

हालांकि कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया से बंगला खाली करवा लिया गया था. जबकि वे भी पूर्व सीएम होने के नाते इन नियमों के दायरे में आते थे. इनके अलावा राज्य सभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा से भी सरकारी बंगला खाली करवाया गया. हालांकि जिन नियमों के तहत राजे को विधानसभा पूल में बंगला दिया गया है उनमें पायलट व विश्वेंद्र सिंह भी आते हैं.

 दारोगा जीजा ने बहन को घर से निकाला तो टावर पर चढ़ गया साला, घंटो चला ड्रामा

आपकों बता दे कि पायलट केंद्र में मंत्री, सांसद, कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं व मौजूदा विधायक भी हैं. विश्वेंद्र सिंह भी 3 बार सांसद, 6 बार विधायक व कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं और माैजूदा विधायक भी हैं. लेकिन रमेश मीणा सिर्फ कैबिनेट मंत्री रहे हैं और विधायक हैं; इसलिए वह विधानसभा पूल के नियमों में भी नहीं आते. हालांकि विधानसभा पूल में बंगला शामिल करने के लिए भी इन्हें सरकार के सामने आवेदन करना होगा.

वहीं बंगला खाली करने के नोटिस पर पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा है कि मुझे अब तक काेई नोटिस नहीं मिला है. मेरी सीएमओ से बात भी हुई है वहां से भी यही कहा गया है कि फिलहाल किसी तरह का कोई नोटिस जारी नहीं हो रहा है. यदि फिर भी नोटिस मिलता है तो मैं 12 घंटे में ही बंगला खाली कर दूंगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें