खाटूश्यामजी का लक्खी मेला शुरू, कोरोना नेगेटिव होने पर ही होंगे दर्शन

Smart News Team, Last updated: Wed, 17th Mar 2021, 11:44 AM IST
  • खाटूश्यामजी का फाल्गुनी लक्खी मेला आज से शुरू हो चुका है. मेले में देशभर से श्रद्धालु पहुंचते है. लेकिन एस बार कोरोना के कारण कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए है. इस कारण हर बार की तरह बड़ी संख्या में भक्त इस बार दर्शन नहीं कर सकेंगे.
खाटूश्यामजी का लक्खी मेला शुरू (फाइल तस्वीर)

जयपुर: खाटूश्यामजी का फाल्गुनी लक्खी मेला आज से शुरू हो चुका है. इस मेले में देशभर से बाबा श्याम के दर्शन करने के लिए श्रद्धालु पहुंचते है. लेकिन, इस बार भक्त आसानी से बाबा श्याम का दीदार नहीं कर सकेंगे. कोरोना के कारण कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए है. इस कारण हर बार की तरह बड़ी संख्या में भक्त इस बार दर्शन नहीं कर सकेंगे. बता दें कि कोरोना के कारण अब ऑनलाइन पंजीयन और कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव होने के बाद ही प्रभु के दर्शन हो सकेंगे. पंजीयन और रिपोर्ट के आधार पर भक्तों के हाथ पर एक मुहर लगाई जाएगी. इस मुहर को देखने के बाद ही भक्तों को आगे प्रवेश मिलेगा. बता दें भक्तों की भीड़, आस्था व उल्लास के साथ मेले में खास बात बाबा श्याम का अनूठा दरबार व पोशाक श्रृंगार भी होगा. पहली बार दिव्यांगों के लिए दर्शनों की विशेष व्यवस्था मेले में की गई है.

पैकर्स एंड मूवर्स कर रहे लोगों से ठगी, आईएएस का सामान भी कब्जाया

जानें, मेले से जुड़ी खास बातें

बाबा श्याम का मेला आज से शुरू हुआ है. लेकिन, भक्त मंगलवार को ही खाटू पहुंच गए. मंगलवार को 50 हजार से अधिक भक्तों ने बाबा के दर्शन किए. फाल्गुनी मेला 17 से 26 मार्च तक चलेगा. इस बार 65 कारीगरों ने श्याम मंदिर को धवल महल का रूप दिया है. मेले में 5 जगहों पर दर्शनों से पहले कोविछ की जांच के लिए सेंटर बनाए गए है. यदि भक्तों को बाबा के दर्शन करने हैं तो उन्हें 16 किलोमीटर पैदल चलना होगा. इस बार 10 हजार वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था की गई है. साथ ही मेले की सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा 2980 पुलिसकर्मियों के हाथों में होगा.

रिंग रोड परियोजना में जरूरत से ज्यादा जमीन ली, न्याय के लिए किसान लगा रहे चक्कर

यह रहेगी पाबंदी

लक्खी मेले में बच्चे, बुजुर्ग व बीमार व्यक्तियों के प्रवेश पर रोक रहेगी. साथ ही सभी को मास्क, सेनेटाइजेशन और सोशल डिस्टेंस की पालना करनी होगी. वहीं, होटल व धर्मशालाओं में क्षमता से आधे लोग ही ठहर सकेंगे. मंदिर के बाहर बने कुंड में इस मेले के दौरान भक्त स्नान नहीं कर सकेंगे. भंडारों, झांकियों के प्रदर्शन व डीजे पर भी रोक लगाई गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें