लाडनूं से जयपुर सीधे पहुंचने के लिए विधायक ने रखी नए रेलमार्ग निर्माण की मांग

Smart News Team, Last updated: 30/09/2020 01:46 PM IST
  • जयपुर. विधायक मुकेश भाकर ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर डीडवाना से कुचामन तक नई रेलवे लाइन का सर्वे करवाया जाकर स्वीकृत करने और नया रेलमार्ग बनवाने की मांग की है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

जयपुर। क्षेत्र के बहुत से लोग विदेशों में भी रोजगार करते हैं. जयपुर से कुचामन तक रेलवे मार्ग बना हुआ है. सिर्फ डीडवाना से कुचामन तक रेल लाइन जुड़ जाने से लाडनूं से जयपुर तक का रेलमार्ग तैयार हो जाएगा. प्रदेश की राजधानी और जयपुर की बेहतर सुविधाओं का लाभ लोगों को इस रेल लाइन के बन जाने से आसानी से मिल सकेगा देश के प्रत्येक कोने में बसे क्षेत्रवासियों को भी इस रेल सेवा का लाभ मिल पाएगा.

दरसअल विधायक मुकेश भाकर ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर डीडवाना से कुचामन तक नई रेलवे लाइन का सर्वे करवाया जाकर स्वीकृत करने और नया रेलमार्ग बनवाने की मांग की है .विधायक भाकर ने लिखा है कि इस क्षेत्र के लोगों का राजधानी जयपुर आना-जाना लगातार रहता है. यह रेल मार्ग बन जाने से लाडनूं से सीधी जयपुर के लिए रेलसेवा उपलब्ध हो सकेगी. डीडवाना से कुचामन तक मात्र 45 किमी रेल लाइन बन जाने से लाडनूं जयपुर तक रेलमार्ग हो सकेगा.

सावधान! जयपुर के इस कोविड लैब से जांच कराया तो नहीं जा पाएंगे दुबई

वर्तमान में वाया डेगाना होकर जाना पड़ता है जिससे 77 किमी की दूरी अधिक रहती है. विधायक भाकर ने लिखा है कि उनके निर्वाचन क्षेत्र लाडनूं से बहुत सारे लोग व्यावसायिक व अन्य कारणों से देश के विभिन्न प्रांतों में निवास करते हैं. उनका पारिवारिक व अन्य कारणों से आना-जाना बना रहता है. लाडनूं तेरापंथ जैन धर्म की आस्था का केन्द्र भी है. तेरापंथ के नौवे आचार्य तुलसी की जन्मस्थली भी यहां है. अन्तर्राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त जैन विश्वभारती विश्वविद्यालय भी यहां है. जहां देश और विदेशों से भी लोगों का आना जाना बना रहता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें