राजस्थान में फसलों को नुकसान नहीं पहुंचा पाएगा टिड्डी दल का हमला, ये है कारण

Smart News Team, Last updated: Wed, 18th Aug 2021, 4:22 PM IST
  • राजस्थान में किसानों के लिए राहत की खबर है. राजस्थान में टिड्डी दल के हमले से फसलों को इस बार नुक्सान नहीं होगा. केंद्र सरकार के एक सर्वे में यह खुलासा हुआ है. केंद्र सरकार के सर्वे में पता चला है की इस बार इरान से चलने वाली हवाओं का रुख बदला है. केंद्र सरकार ने पाकिस्तान के बॉर्डर इलाकों में भी सर्वे किया है जहाँ पर टिड्डी का कोई भी संकेत नहीं मिला है.
टिड्डी हमला (फाइल फोटो)

जयपुर. राजस्थान में किसानों के लिए अच्छी खबर सामने आई है. इस बार किसानों को टिड्डी दल के हमले से कोई नुक्सान नहीं होने वाला है. केंद्र के सर्वे में खुलासा हुआ है की ईरान से चलने वाली हवाओ का रुख इस बार बदल गया है. जिस कारण टिड्डी दल के हमले से फसलों को नुक्सान न होने की आशंका जताई है. केंद्र सरकार ने भारत-पाकिस्तान के बॉर्डर पर भी कई सर्वे किये हैं जहां पर टिड्डी मिलने का कोई संकेत सामने नहीं आया है. केंद्र सरकार के सर्वे से पकिस्तान के रास्ते आने वाले टिड्डी दल के हमले से नुक्सान की आशंका कम हो गई है. 

पिछले दो सालों से राजस्थान में टिड्डी दल के हमलों से किसानों की फसलों से काफी नुक्सान हुआ है. टिड्डी दल रास्ते में आने वाली कई बीघा फसलों को मिनटों में चट कर जाता है. जिस कारण किसानों को आर्थिक तौर पर भारी नुक्सान उठाना पढता है. पिछले दो सालों से टिड्डी हमलों का काफी खौफ किसानों में देखा जाता है.  यह टिड्डी दल ईरान, अफगानिस्तान और पाकिस्तान से होते हुए राजस्थान में प्रवेश करता है. केंद्र सरकार और राज्य सरकार टिड्डी दल के हमले से बचने के लिए कई तरकीबे लगाती थी, लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद लाखों हेक्टेयर फसल बर्बाद हो जाती हैं. 

भंवरी देवी हत्याकांड मामले में पूर्व विधायक मलखान को 9 साल 8 माह बाद मिली जमानत

टिड्डी दल राजस्थान के बाड़मेर, जैसलमेर, जालोर, जोधपुर, गंगानगर, हनुमानगढ़, और बीकानेर में सबसे ज्यादा प्रकोप देखने को मिलता है. किसानों की फसलों को बचाने के लिए केद्र सरकार के कृषि एवं सहकारिता विभाग ने टिड्डी दल के हमले को लेकर एक सर्वे कराया है. सर्वे में खुलासा हुआ है की इस बार टिड्डी दल के हमले की कोई आशंका नहीं है. क्योंकि ईरान से चलने वाली हवाओं का रुख बदलने के कारण ऐसा हुआ है. भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर टिड्डी के अवशेष व कोई भी जिंदा टिड्डी नहीं मिली है. इस खबर से किसानों को काफी राहत मिलने वाली है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें