जयपुर समेत पांच जिलों में बिना MRP बिक रहे थे मेडिकल इक्विपमेंट, हुई कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Wed, 26th May 2021, 10:30 PM IST
  • पांच जिलों में बिना डिक्लेरेशन एवं बगैर एमआरपी के मेडिकल उपकरण बेचने पर उन्हें जब्त किया गया है. जयपुर में विधिक माप विज्ञान टीम ने जयपुर शहर में मैसर्स अजय राजवंशी के खिलाफ यह कार्रवाई की है
आज राजस्थान के पांच जिलों में विधिक माप विज्ञान टीम की कार्रवाई .

जयपुर. विधिक माप विज्ञान विभाग ने आज राजस्थान के पांच जिलों में कर बिना एमआरपी बेचे जा रहे मेडिकल इक्वीपमेंट जब्त किए हैं. इनमें जयपुर की भी एक फर्म शामिल है. बता दें राजधानी में प्रिंटर्स कॉलोनी टोंक रोड स्थित फर्म मेसर्स अजय राजवंशी की विभाग को लगातार शिकायतें मिल रही थी. जिस पर टीम की ओर से मौके पर जाकर जांच की गई. जांच के दौरान बिना डिक्लेरेशन एवं बगैर एमआरपी के बेचने के लिए रखे 18 ऑक्सीजन रेगुलेटर एडजस्टमेंट वाल्व, दो पल्स ऑक्सीमीटर के और एक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर जब्त किया गया है.

 

इसके साथ ही विधिक माप विज्ञान विभाग की ओर से जोधपुर, राजसमंद, नागौर एवं टोंक जिले में भी निरीक्षण कर अनियमितता पाए जाने पर चार दुकानदारों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किए गए. निरीक्षण के दौरान 11 हज़ार रुपए का जुर्माना लगाया. 

राजस्थान के गांवों में घर-घर पहुंचेगा नल का जल, सरकारी योजना मंजूर

जोधपुर शहर में लक्ष्मी सर्जिकल स्टोर का निरीक्षण किया. जहां पल्स ऑक्सीमीटर एवं मास्क पर डिक्लेरेशन नहीं पाया गया. जिसके कारण टीम ने फर्म पर पांच हजार रुपए की पेनल्टी लगाई. राजसमंद जिले के ओम मेडिकल स्टोर पर एन 95 मास्क पर एवं नागौर जिले में सालासर मेडिकल एंड जनरल स्टोर पर पल्स ऑक्सीमीटर पर डिक्लेरेशन नहीं पाए जाने की वजह से दोनों फर्मों के विरुद्ध 2500-2500 रुपए की पेनल्टी लगाई. टोंक जिले में कोर मेडिकल स्टोर पर सैनिटाइजर के संबंध में अनियमितता पाई गई. जिस पर टीम ने एक हजार रुपए की पेनल्टी लगाई.

सीएम गहलोत का 'मेरा गांव-मेरी जिम्मेदारी' पर प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का तंज

गौरतलब है कि राजस्थान में विधिक माप विज्ञान विभाग और ड्रग कंट्रोलर की टीम लगातार दबिश देकर ऐसे मेडिकल सेंटर्स पर कार्रवाई कर रही है. इसके साथ ही ड्रग कंट्रोलर की टीम ने कुछ दिन पहले जयपुर के एक कॉस्मेटिक सेंटर पर कार्रवाई कर गैर कानूनी तरीके से प्लस ऑक्सीमीटर एवं अन्य सामान जब्त किया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें