अस्पताल फार्मेसी में रेमडिसिवर कालाबाजारी, 12 मेडिकल स्टोर के लाइसेंस सस्पेंड

Smart News Team, Last updated: Sun, 23rd May 2021, 6:18 PM IST
  • राजधानी जयपुर की अस्पतालों के फार्मेसी में रेमिडिसिवर समेत अन्य दवाओं की कालाबाजारी की शिकायत की जांच के बाद 12 मेडिकल स्टोर्स के लाइसेंस 2 से 15 दिनों तक निलंबित किए गए है. 
जयपुर में मनमाने दाम पर रेमेडेसिविर बेचा जा रहा है .

जयपुर. राजधानी के नामी कोविड अस्पतालों में रेमडेसिविर इंजेक्शन मनमाने दामों पर बेचे जा रहे हैं. ड्रग कंट्रोलर टीम को जब इस बात की जानकारी मिली तो उन्होंने इन अस्पतालों के मेडिकल सेंटर पर छापे मारे. 

बता दें टीम ने जवाहर सर्किल स्थित इटरनल हैल्थ केयर सेंटर एंड रिसर्च हॉस्पीटल, गोपालपुरा बायपास स्थित रूकमणी बिरला हॉस्पीटल, मानसरोवर के मेट्रो मास हॉस्पीटल, विद्याधर नगर स्थित मणिपाल हास्पीटल में स्थित मेडिकल स्टोर्स का निरीक्षण किया गया. 

इन अस्पतालों की ओर से रेमडेसिविर इंजेक्शन की बिक्री मरीजों को राज्य सरकार की ओर से निर्धारित दरों से अधिक कीमत पर किया जा रहा था. साथ ही अन्य अनियमितता पाए जाने पर इन मेडिकल स्टोर्स का लाइसेंस अस्थाई तौर पर निलंबित किया गया.

जयपुर: ब्लैक फंगस की दवा के लिए सोशल मीडिया पर मांगी मदद, बदमाशों ने 95 हजार ठगे

औषधि नियंत्रक राजाराम शर्मा ने बताया कि शहर में दवाओं की कालाबाजारी और दवाओं के मनमाने दामों पर बेचने के मामलों पर टीम रोजाना कार्रवाई कर रही है. सहायक औषध नियंत्रक दिनेश तनेजा ने बताया कि इसी तरह सीकेएस लाइफ केयर, सांगानेर के डीएस फार्मा और लाइफलाइन मेडिकोज, जेएलएन मार्ग के सूर्या एंटरप्राइजेज, मालवीय नगर के भाग्यश्री मेडिकोज एंड प्रोविजन स्टोर, 22 गोदाम स्थित ओमशिव मेडिकल एंड डिपार्टमेंटल स्टोर, नेहरू बाजार स्थित लाइफ सेवर स्टोर और मुरलीपुरा स्थित श्री नारायण मेडिकल एंड डिपार्टमेंटल स्टोर पर टीम द्वारा बोगस ग्राहक भेजा गया. 

इन स्टोर्स पर कोरोना के इलाज की दवाइयां बिना चिकित्सीय परामर्श पत्र के बेचने व बिना बिल के एवं रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट की अनुपस्थिति में दवा बेचते पाया गया. इसके अलावा कोरोना में काम आने वाले उपकरण, मास्क आदि की मनमानी कीमत वसूलते पाया गया. ऐसे में विभाग ने इन मेडिकल स्टोर्स का लाइसेंस 2 से 15 दिन के लिये सस्पेंड किया है.

चिरंजीवी योजना के तहत राजस्थान में मुफ्त होगा ब्लैक फंगस का इलाज

बता दें कि दवाइयों की कालाबाजारी की लगातार सूचनाएं मिल रही थी. उसके बाद राज्य सरकार की ओर से इसे रोकने के निर्देश दिए गए. इस पर जयपुर में ड्रग कंट्रोलर कार्यालय की ओर से शहर में तीन टीमें बनाकर कार्रवाई की जा रही है. 

ये टीम रोजाना मेडिकल स्टोर्स पर छापामार कार्रवाई कर रही है. अब तक करीब 30 से ज्यादा कार्रवाई यह टीमें कर चुकी हैं. बताया जा रहा है कि जैसे ही टीम किसी को दुकान पर पहुंचती हैं तो आसपास के मेडिकल स्टोर्स पर खलबली मच जाती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें