विश्व प्रसिद्ध मेहंदीपुर बालाजी के महंत किशोरी पुरी महाराज का निधन, CM गहलोत ने जताया शोक

Smart News Team, Last updated: Sun, 8th Aug 2021, 8:44 PM IST
  • विश्व प्रसिद्ध धार्मिक स्थल मेहंदीपुर बालाजी ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत किशोर पुरी का निधन हो गया है. उनके निधन की खबर से संपूर्ण क्षेत्र में शोक की लहर छा गई. वहीं धार्मिक नगरी मेहंदीपुर बालाजी का बाजार और मंदिर के कपाट भी बंद हो गए. वहीं राजस्थान के अशोक गहलोत ने भी शोक जताया है.
मेहंदीपुर बालाजी ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत किशोर पुरी का निधन

जयपुर. विश्व प्रसिद्ध धार्मिक स्थल मेहंदीपुर बालाजी ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत किशोर पुरी का रविवार को निधन हो गया है. काफी समय से अस्वस्थ चल रहे महंत किशोर पुरी ने करीब 88 वर्ष की उम्र में जयपुर में अंतिम सांस ली है. महंत किशोर पुरी के निधन की खबर से संपूर्ण क्षेत्र में शोक की लहर छा गई. इसके साथ ही मंदिर के कपाट और मेहंदीपुर बालाजी का बाजार भी बंद हो गया है. वहीं महंत किशोर पुरी के निधन पर हजारों की संख्या में मेहंदीपुर बालाजी के निवासी और श्रद्धालुओं ने श्रद्धांजलि दी है. इसके साथ ही राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और राज्यपाल कल राज मिश्र ने भी शोक जताया है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मेहंदीपुर बालाजी ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत किशोर पुरी के निधन पर ट्वीट किया है. गहलोत ने ट्वीट करके लिखा- मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के महंत श्री किशोरपुरी महाराज के निधन की जानकारी दुखद है. उन्होंने सामाजिक क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किये. ईश्वर से प्रार्थना है दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करें. 

वहीं राज्यपाल कलराज मिश्र ने महंत श्री किशोरपुरी महाराज के निधन पर कहा ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे. इसके साथ ही उन्होंने स्वर्गीय किशोरपुरी महाराज को पुण्यात्मा बताते हुए कहा कि समाज के लिए उनके द्वारा किए गए कार्यों को सदैव याद किया जाएगा.

राजस्थान में जल्द खुल सकते हैं स्कूल-कॉलेज, CM गहलोत ने दिए ये निर्देश

बता दें महंत किशोर पुरी ने मेहंदीपुर बालाजी में बालिकाओं के लिए निशुल्क महाविद्यालय संचालित कर रखा था. इसके साथ ही वह एक धर्मगुरु के साथ-साथ समाजसेवी भी थे. मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के महंत श्री किशोरपुरी महाराज के निधन के बाद जयपुर से उनके शव को मेहंदीपुर बालाजी एंबुलेंस के माध्यम से लाया गया. मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के आरती हॉल में इनके शव को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया और सोमवार को उनकी पार्थिव देह को पंचतत्व में विलीन किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें