जयपुर नगर निगम चुनाव में महिलाओं की भागीदारी, भाजपा-कांग्रेस पर यूं पड़ी भारी

Smart News Team, Last updated: 16/10/2020 08:12 PM IST
  • जयपुर के दोनों नगर-निगमों में महिलाओं के लिए वार्ड आरक्षित हैं, जिससे इस बार पिछली बोर्ड की तुलना में 50 महिला पार्षद अधिक बनकर बोर्ड पहुंचेंगी. लेकिन यह बात कांग्रेस और बीजेपी जैसे दलों के लिए मुश्किलें खड़ी कर रही है. क्योंकि दोनों ही दलों में महिलाओं की सक्रियता काफी कम है.
नगर निगम चुनाव में इस बार महिला प्रत्याशी आगे

जयपुर.जयपुर में नगर निगम चुनाव की तारीख धीरे-धीरे नजदीक आ रही है. ऐसा पहली बार होगा जब निगम बोर्ड में महिलाओं की भागीदारी अधिक देखने को मिलेगी. दरअसल, दोनों नगर-निगमों में महिलाओं के लिए वार्ड आरक्षित हैं, जिससे इस बार पिछली बोर्ड की तुलना में 50 महिला पार्षद अधिक बनकर बोर्ड पहुंचेंगी. लेकिन यह बात कांग्रेस और बीजेपी जैसे दलों के लिए मुश्किलें खड़ी कर रही है. क्योंकि दोनों ही दलों में महिलाओं की सक्रियता काफी कम है.

राजस्थान: कुमार विश्वास की पत्नी मंजू शर्मा RPSC मेंबर, DGP भूपेंद्र चेयरमैन बने

हैरान करने वाली बात तो यह है कि करीब 41 वार्ड में भाजपा और कांग्रेस को महिला प्रत्याशी चुनने में समस्या हो रही है, क्योंकि यहां पुरुषों की भागीदारी अधिक है. जहां वार्ड-मंडल-ब्लॉक में दोनों दी दलों में पुरुष ही पदाधिकारी और सदस्य बने हुए हैं तो वहीं भाजपा और कांग्रेस में चुनींदा महिलाएं ही दल में सक्रिय हैं. ऐसे में उन 41 वार्ड पर कई पूर्व पार्षद और दल के पदाधिकारी अपनी पत्नियों और बेटियों के लिए टिकट मांग रहे हैं.

जयपुर ग्रेटर में सामान्य वर्ग में से 20 वार्ड महिलाओं के लिए, एससी वर्ग में 4 वार्ड महिलाओं के लिए, ओबीसी वर्ग में 7 वार्ड महिलाओं के लिए और एसटी वर्ग में 1 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित है. वहीं, हेरिटेज की बात करें तो यहां सामान्य वर्ग में 20 वार्ड महिलाओं के लिए, एससी वर्ग में 4 वार्ड, ओबीसी वर्ग में 7 वार्ड और एसटी वर्ग में 1 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित है. इन बातों को लेकर उम्मीद लगाई जा रही है कि भाजपा और कांग्रेस दल के सदस्य अपनी बेटी और पत्नियों को चुनाव के मैदान में उतार सकते हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें