जयपुरवासी देश में सबसे महंगा डीजल और पेट्रोल खरीदने को मजबूर, ये है वजह

Shubham Bajpai, Last updated: Fri, 5th Nov 2021, 5:23 PM IST
  • देश में मोदी सरकार के एक्साइज ड्यूटी घटाने के बाद पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी आई है, लेकिन इस बीच राजस्थान सरकार द्वारा वैट न कम करने की वजह से पूरे देश में सबसे अधिक महंगे डीजल के बाद पेट्रोल भी जयपुर में मिल रहा है. जयपुर में डीजल 95.71 रुपये और पेट्रोल के दाम 111.1 रुपये प्रति लीटर हैं.
जयपुरवासी देश में सबसे महंगा डीजल और पेट्रोल खरीदने को मजबूर, ये है वजह

जयपुर. राजस्थान की कांग्रेस सरकार अभी आमजन को पेट्रोल और डीजल के दामों में राहत देती नजर नहीं आ रही है. देश में केंद्र सरकार के एक्साइज ड्यूटी कम करने के बाद कई प्रदेशों ने पेट्रोल और डीजल पर वैट कम कर दिया था, लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वैट कम करने से इंकार कर दिया. जिसकी वजह से अब नया रिकॉर्ड बनाते हुए प्रदेश की राजधानी जयपुर में देश में सबसे महंगा पेट्रोल और डीजल दोनों मिल रहा है. जयपुर में डीजल की कीमत 95-71 पैसे है और पेट्रोल 111.10 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है.

इससे पहले देश में डीजल के मामले में जयपुर सबसे आगे था, लेकिन पेट्रोल के दाम सबसे अधिक देश में किसी राजधानी के थे वो मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल थी, लेकिन एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वैट में कमी कर दी है जिससे वहां पेट्रोल के दाम कम हो गए हैं.

राजस्थान उपचुनाव रिजल्ट में दिखा CM गहलोत का दम, पायलट खेमे का शोर बंद !

सरकार वैट कम करने को नहीं तैयार

प्रदेश में पेट्रोल और डीजल के दामों में वैट कम करने को लेकर सीएम अशोक गहलोत तैयार नहीं नजर आ रहे हैं. वैट कम करने के सवाल पर गहलोत ने कहा कि पेट्रोल और डीजल में एक्साइज ड्यूटी कम होने के बाद वैट अपने आप ही घट जाएगा, क्योंकि कीमत कम होगी तो उस पर वैट का प्रतिशत भी कम ही लगेगा. यानी कि प्रदेश सरकार अफनी ओर से किसी भी तरह की राहत देने पर विचार नहीं कर रही है.

छठ से पहले भारतीय रेलवे ने राजस्थान-यूपी के बीच चलाई फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन, जानिए पूरा शेड्यूल

बता दें कि दिवाली से ठीक एक दिन पहले केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार ने एक्साइज ड्यूटी कम करते हुए पेट्रोल में 5 रुपये और डीजल में 10 रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी. जिसके बाद एक के बाद एक कई राज्यों ने वैट में कमी करके आमजन को दोहरी राहते देने का काम किया, लेकिन राजस्थान सरकार की ओर से अब तक कोई भी कटौती नहीं की गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें