NEET PG Counseling: पुलिस कार्रवाई पर जयपुर के रेजिडेंट्स डॉक्टर्स ने किया दो घंटे कार्य का बहिष्कार

Haimendra Singh, Last updated: Tue, 28th Dec 2021, 12:59 PM IST
  • सोमवार की नीट पीजी काउंसलिंग में हो रही देरी को लेकर डॉक्टर आंदोलन कर रहे हैं दिल्ली पुलिस ने रेजिडेंट डॉक्टर्स डॉक्टरों पर कार्रवाई की, जिसके विरोध में आज जयपुर एसएमएस मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने 2 घंटे तक अपने कार्य का बहिष्कार किया.
पुलिस कार्रवाई पर जयपुर के रेजिडेंट्स डॉक्टर्स ने किया दो घंटे कार्य का बहिष्कार.( सांकेतिक फोटो)

जयपुर. नीट पीजी काउंसलिंग में हो रही देरी को लेकर पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में आंदोलन चल रहा है. सोमवार को आंदोलन कर रहे रेजीडेंट डॉक्टरों पर पुलिस ने कार्रवाई की, जिसके विरोध में आज यानि मंगलवार को सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर्स ने पुलिस की बर्बरता को लेकर सुबह नौ से लेकर 11 बजे तक अपने कार्य का बहिष्कार किया. डॉक्टर्स ने जयपुर एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट्स डॉक्टर्स (जार्ड) के नेतृत्व में एसएमएस मेडिकल कॉलेज से एसएमएस हॉस्पिटल तक पैदल मार्च निकाला.

पुलिस के द्वारा किए गए बर्ताव को लेकर एसएमएस मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने सुबह नौ बजे से लेकर 11 बजे तक अपने कार्य सहित सभी तरह की ओपीडी का भी बहिष्कार किया. जार्ड के इस बहिष्कार को देखते हुए एसएमएस मेडिकल कॉलेज के सीनियर डॉक्टर और एसोसिएट प्रोफेसर को ओपीडी की जिम्मेदारी संभालनी पड़ी. मिली जानकारी के अनुसार मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने एक दिन पहले ही सीनियर डॉक्टरो को इस जिम्मेदारी के निभाने का आदेश दिया था जिससे हॉस्पिटल में मरीज को किसी भी तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े.

राजस्थान: अशोक गहलोत के बयान पर मिले खास संकेत, बोले- 3 का आंकड़ा हमेशा साथ रहा

जानकारी के अनुसार, मंगलवार की रात को डॉक्टरों की जनरल बॉडी की बैठक होगी. इस बैठक में आंदोलन के आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा. जार्ड से जुड़े डॉक्टरों का कहना है कि वह दिल्ली पुलिस ने कोरोना वारियर्स पर जिस तरह की बर्बरता दिखाई है हम उसकी निंदा करते है. घटना को लेकर इस आंदोलन से जुड़े दिल्ली के डॉक्टरों ने कहा, मंगलवार को जैसे ही हम मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज (एमएएमसी) परिसर से उच्चतम न्यायालय तक मार्च कर रहे थे वैसे ही पुलिस ने हमारा रास्ता रोक दिया. एसोसिएशन के अध्यक्ष मनीष ने आरोप लगाया कि कई डॉक्टरों को पुलिस ने हिरासत में लिया और उन्हें थाना परिसर ले जाया गया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस बल का इस्तेमाल किया गया जिससे कुछ डॉक्टर घायल हो गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें