जयपुर: अब जुआ और ऑनलाइन सट्टेबाजी खेलने वालों की खैर नहीं, सरकार ला रही विधेयक

Smart News Team, Last updated: 04/03/2021 08:25 PM IST
  • राजस्थान में अब जुआ और ऑनलाइन सट्टेबाजी के खिलाफ सरकार विधेयक ला रही है. इसके तहत जुआबाजी रोकने के लिए अलग-अलग धाराओं में सजा की अवधि एवं आर्थिक दंड में बढ़ोतरी के प्रावधान में किए गए हैं.
साइबर क्राइम

जयपुर. राजस्थान सरकार जुआ और ऑनलाइन सट्टेबाजी को लेकर सख्त रुख अपना रही है. इसको लेकर हाल ही में सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. जिसके बाद जनता में खलबली मच गई है. दरअसल, प्रदेश सरकार ऑनलाइन सट्टेबाजी के खिलाफ विधेयक ला रही है. सरकार सट्टेबाजी को सामाजिक बुराई मानते हुए राजस्थान पब्लिक गैंबलिंग ऑर्डिनेंस-1949 के स्थान पर नया विधेयक ला रही है.

अब राजस्थान पब्लिक गैंबलिंग (प्रिवेंशन) विधेयक- 2021 में ऑनलाइन जुआबाजी और सट्टे को रोकने के कठोर प्रावधान किए गए हैं. आपको बता दें कि राज्य में ऑनलाइन जुआबाजी को पहली बार संज्ञेय अपराध माना है. इसको लेकर बताया जा रहा है कि सरकार मौजूदा विधानसभा सत्र में विधेयक को पेश कर सकती है. इस विधेयक में जुआबाजी रोकने के लिए अलग-अलग धाराओं में सजा की अवधि एवं आर्थिक दंड में बढ़ोतरी के प्रावधान में किए गए हैं.

कम हो रही दूरियां, डेढ़ साल बाद एक साथ नजर आए CM अशोक गहलोत और सचिन पायलट

इस नए विधयेक के लागू होने के बाद अब जुवा और सट्टा खेलने वालों की खैर नहीं होगी. इस विधेयक में जुआ-सट्‌टाघर चलाने वालों और जुआ-सट्‌टा खेलने वालों को कड़ी सजा और जुर्माना का प्रावधान किया गया है. बता दें कि युवाओं में ऑनलाइन जुए की लत बढ़ रही है. कुछ ऐसी एप्स भी आई है जिनके जरिए जुए को बढ़ावा दिया जा रहा है. वहीं प्रदेश में पुलिस हर साल जुआ एक्ट के तहत 50 हजार से ज्यादा मामले दर्ज करती है. ऐसे में सरकार द्वारा लिया गया यह फैसला काफी फायदेमंद साबित होगा. हजारों की संख्या में लोग जुआ या सट्टे में पकड़े जाते हैं, जिनपर राजस्थान सार्वजनिक जुआ अध्यादेश के तहत कार्रवाई की जाती है. अब नए विधेयक के तहत कार्यवाही कर सजा दी जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें