गुजरात से आज जयपुर के कनकपुरा आएगी ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन

Smart News Team, Last updated: Wed, 12th May 2021, 1:10 PM IST
  • जयपुर में आज ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन शाम सात बजे कनकपुरा स्टेशन पर पहुंचेगी. इस ट्रेन से ऑक्सीजन आने पर जयपुर के कोविड मरीजों को जरुर राहत मिलेगी. ट्रेन गुजरात के हापा से सुबह पांच बजे रवाना हो चुकी है .
प्रतिकात्मक तस्वीर 

जयपुर. राजस्थान की राजधानी जयपुर के अस्पतालों में लगातार ऑक्सीजन की किल्लत चल रही है. ऐसे में अब थोड़ी राहत जयपुर शहर के कोरोना मरीजों को जरुर मिलेगी. दरअसल, गुजरात के हापा से ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन रवाना हो चुकी है. यह ट्रेन आज सुबह 5:05 बजे हापा रेलवे स्टेशन से रवाना हुई है. जिसकी शाम 7 बजे जयपुर के कनकपुरा स्टेशन पर पहुंचने की संभावना जताई जा रही है. बता दें कि इस ट्रेन में दो ऑक्सीजन के टैंकर है. साथ ही दो खाली बोगी भी इस ट्रेन में रहेगी. बताया जा रहा है कि इन दोनों टैंकर में 36.44 मीट्रिक टन ऑक्सीजन जयपुर आ रही है. यहां पहुंचने के बाद कनकपुरा स्टेशन से इन कंटेनर को सुरक्षा के बीच संबंधित स्थानों पर पहुंचाया जाएगा.

 

बता दें कि जयपुर के बड़े निजी अस्पतालों ने ऑक्सीजन की कमी के कारण कुछ दिन पहले नोटिस चस्पा कर दिए थे कि वे अब कोविड-19 के मरीजों को भर्ती नहीं कर सकेंगे. फोर्टिस अस्पताल ने लिखा था कि "हमारे पास ऑक्सीजन नहीं है. जो मरीज भर्ती हैं, उनके लिए भी सीमित मात्रा में ही ऑक्सीजन बची है. इसलिए नए मरीज भर्ती नहीं कर सकते हैं." जबकि महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल ने भी यही नोटिस चस्पा किया था कि ऑक्सीजन की कमी के चलते अब वे नए मरीजों को भर्ती नहीं कर सकते. तमाम अन्य छोटे-बड़े निजी अस्पताल तो पहले से ही नए मरीजों की भर्ती रोक चुके हैं. हालांकि सरकार के हस्तक्षेप के बाद और ऑक्सीजन की आपूर्ति होने पर ये नोटिस हटाए गए.

कोविड मरीजों को भर्ती करने से मना नहीं कर सकेंगे अस्पताल, फ्री में एंबुलेंस

बता दें कि जयपुर रेल मंडल ने 7 ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन सुरक्षित पहुंचाई है. उत्तर पश्चिम रेलवे जयपुर मंडल ने गत दिनों गुजरात से हरियाणा व दिल्ली क्षेत्र के लिए ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेनें अपने 288.35 किलोमीटर लंबे क्षेत्र से पूर्ण सावधानी से सुरक्षित पहुंचाई. 3 मई से 7 मई तक कुल 7 स्पेशल ट्रेनों से 32 ऑक्सीजन टैंकर इस मार्ग से निकले. इन ट्रेनों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाकर समयानुसार पहुंचाया गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें