जयपुर में राजीनामा कराने के लिए आरोपी से रिश्वत ले रहा थानेदार गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Sun, 29th Nov 2020, 1:46 PM IST
  • भूखंड धोखाधड़ी के मामले में एक आरोपी के खिलाफ दर्ज मुकदमे में राजीनामा कराने के एवज में रिश्वत ले रहा था जयपुर के जवाहर सर्कल थाने का एएसआई. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने जाल बिछाकर रंगे हाथ किया गिरफ्तार. आए दिन ब्यूरो के हत्थे चढ़ रहे घूसखोर अधिकारी और कर्मचारी.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की गिरफ्त में रिश्वत लेते पकड़े गए एएसआई

जयपुर. राजस्थान में आए दिन घूसखोर अधिकारी और कर्मचारी भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो यानी एसीबी के हत्थे चढ़ रहे हैं. जयपुर में एसीबी ने जाल बिछाकर जवाहर सर्कल थाने के एएसआई लक्ष्मणराम को 24 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगें हाथ गिरफ्तार कर लिया. घूसखोर एएसआई रिश्वत की यह राशि 30 लाख रुपए के भूखंड धोखाधड़ी के मामले में एक आरोपी के खिलाफ दर्ज मुकदमे में राजीनामा कराने के एवज में ले रहा था। 

एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि शनिवार को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में राजेंद्र कुमार मीणा और उसके भाई पंकज मीणा ने शिकायत दी. इसमें बताया कि उनके खिलाफ धोखाधड़ी का एक मुकदमा थाने में दर्ज है. इस मामले में राजीनामा कराने के एवज में एएसआई लक्ष्मणराम 50 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा है. उन्होंने तीन बार में 5-5 हजार रुपए के हिसाब से 15 हजार रुपए दे भी दिए हैं. अब एएसआई 35 हजार रुपए और मांग रहा है.

जयपुर में गिरफ्तारी के बाद बोला आरोपी- याद भी नहीं कि कितने भ्रूण परीक्षण किए

एसीबी के एएसपी पुष्पेंद्र सिंह शेखावत ने रिश्वत मांगने का सत्यापन करवाया. इसके बाद रात में आरोपी एएसआई को थाने में ही घूस लेते दबोचा गया. एसीबी को थाने में आरोपी एएसआई लक्ष्मणराम की अलमारी में फाइलों के पास रिश्वत की राशि के अलावा 24 हजार रुपए और रखे मिले. एसीबी इन रुपयों के संबंध में भी पूछताछ कर रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें