सचिन पायलट के मीडिया मैनेजर के खिलाफ दर्ज केस में पुलिस ने पेश की अंतिम रिपोर्ट

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 10:45 PM IST
  • राजस्थान में कुछ माह पहले चली सियासी उठापठक जब शांत हो चुकी थी तो उसके बाद यह मामला दर्ज किया गया था. ऐसे में यह रिपोर्ट दर्ज होने के बाद से ही पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे थे. कहा जा रहा था कि बिना तथ्यों के आधार पर यह एफआईआर दर्ज की गई है.
सांकेतिक फोटो

जयपुर. राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के मीडिया मैनेजर और एक पत्रकार के खिलाफ पहले तो पुलिस ने खुद ही एफआईआर दर्ज की थी, लेकिन अब उसी मामले में पुलिस ने एफआर (अंतिम रिपोर्ट) पेश कर दी है. इस मामले में पुलिस कार्रवाई के खिलाफ पायलट के मीडिया मैनेजर ने राजस्थान हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जिस पर कोर्ट ने पुलिस की दण्डात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी थी. यह मामला जयपुर कमिश्नरेट के विधायकपुरी थाने में दर्ज हुआ था.

विधायकपुरी थानाधिकारी ओमप्रकाश माचवा ने बताया कि इस मामले में एफआर लगा दी है. यह मामला साइबर थाना प्रभारी सुरेंद्र पंचौली की रिपोर्ट पर दर्ज किया गया था. रिपोर्ट में बताया था कि एक मैसेज वायरल किया गया कि जैसलमेर के जिस सूर्यगढ़ होटल में विधायक और मंत्री ठहरे थे, वहां चार जैमर लगाए गए हैं. जैमर से मंत्री और विधायकों के फोन टैप किए जा रहे हैं. जयपुर के मानसरोवर स्थित एक होटल से इन जैमर्स को हैंडल किया जा रहा है. वाट्सएप मैसेज भ्रामक प्रचार के उद्देश्य से वायरल किए जा रहे थे. मैसेज लोकेंद्र सिंह के मोबाइल से वायरल हुए और यह सूचना एक चैनल ने चलाई. 

राठौड़ ने कहा- राजस्थान में कभी भी उजागर हो सकता है कांग्रेस का विद्रोह

बता दें कि राजस्थान में कुछ माह पहले चली सियासी उठापठक जब शांत हो चुकी थी तो उसके बाद यह मामला दर्ज किया गया था. ऐसे में यह रिपोर्ट दर्ज होने के बाद से ही पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे थे. कहा जा रहा था कि बिना तथ्यों के आधार पर यह एफआईआर दर्ज की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें