राजस्थान में गहलोत और पायलट गुट में बढ़ा तनाव, लगातार बयानबाजी जारी

Smart News Team, Last updated: Tue, 10th Aug 2021, 4:36 PM IST
  • राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच आपसी खटास कम नहीं हो पा रही है. काफी समय बीत जाने के बाद भी राजस्थान सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो पाया है. जिस वजह से पायलट खेमे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ गुस्सा फूटने लगा है.
राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच एक बार फिर तकरार बढ़ने लगी है.

जयपुर. राजस्थान कांग्रेस में सियासी तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है. राजस्थान में फिर से अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच कड़वाहट की खबरो का बाजार गर्म है. राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट एक दुसरे के खिलाफ सियासी अजमाइश कर रहे हैं.  काफी समय बीत जाने के बाद भी राजस्थान सरकार में मंत्रीमंडल का विस्तार नहीं हो पाया है. जिस वजह से पायलट खेमे के विधायकों में नाराजगी बढ़ती जा रही है. नाराजगी का आलम यह है की पायलट खेमा अपने आप को बगावती कहने से भी पीछे नहीं हट रहा है. कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की दखल के बाद भी कोई  हल नहीं निकल पाया है. 

पूर्व सांसद करण सिंह ने अशोक गहलोत के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली है. उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर गंभीर आरोप लगाये हैं. उन्होंने कहा है की मुख्यमंत्री कांग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित करने का काम कर रहे हैं. खुद अपनी सरकार में कार्यकर्ताओं के काम नहीं हो पा रहे हैं. सरकार में निर्दलीय और बसपा से आये विधायकों का वर्चस्व है. कांग्रेस कार्यकर्ता सरकार की कार्यशैली से हताश है. करण सिंह राजस्थान कांग्रेस के सीनियर नेता हैं. वो चार बार विधायक भी रह चुके हैं. इस पिछले विधानसभा चुनाव में करण सिंह को कांग्रेस ने बहरोड़ से टिकट दिया था लेकिन उन्हें हार का सामना करा पड़ा. 

राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष डोटासरा बोले- सावरकर स्वतंत्रता सेनानी, आजादी से पहले हिंदू राष्ट्र की मांग गलत बात नहीं थी

राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार न होने से पायलट खेमा फिर से बगावती बयानबाजी करने लगा है. पायलट खेमे ने अशोक गहलोत पर जमकर हमला बोला है. वेड प्रकाश सोलंकी सचिन पायलट के करीबी माने जाते हैं. उन्होंने कहा है की अगर पार्टी के सामने अपनी बातों को रखना बगावत है तो हम बागी हैं. कुछ समय पहले राजस्थान प्रभारी अजय माकन राजस्थान आये थे जहां उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की थी. माना जा रहा था की राजस्थान सरकार में जल्द ही कैबिनेट में फेरबदल हो सकता है. और पायलट खेमे के करीबी विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है. लेकिन फिर से मामला खटाई में पड़ता दिख रहा है. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें