जिला निकाय और पंचायत समिति सदस्यों के प्रथम चरण के चुनाव के लिए थमा प्रचार

Smart News Team, Last updated: 21/11/2020 11:59 PM IST
  • राजस्थान के 21 जिलों में होने वाले जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के प्रथम चरण के चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है. ऐसे में प्रथम चरण के लिए होने वाले मतदान के कारण चुनाव प्रचार शनिवार शाम 5 बजे ही थम गया.
ऐसे में प्रथम चरण के लिए होने वाले मतदान के कारण चुनाव प्रचार शनिवार शाम 5 बजे ही थम गया

जयपुर: राजस्थान के 21 जिलों में होने वाले जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के प्रथम चरण के चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है. ऐसे में प्रथम चरण के लिए होने वाले मतदान के कारण चुनाव प्रचार शनिवार शाम 5 बजे ही थम गया. प्रदेश में पंचायत समिति और जिला परिषद के प्रथम चरण के लिए 23 नवंबर को सुबह 7.30 से शाम 5 बजे तक मतदान किया जाएगा. चुनाव आयुक्त श्री पीएस मेहरा ने बताया कि प्रथम चरण में लगभग 25 हजार ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा, जबकि 50 हजार से ज्यादा कार्मिक चुनाव सम्पन्न करवाएंगे.

प्रथम चरण के लिए होने वाले मतदान से पहले प्रचार थमने पर चुनाव आयुक्त श्री पीएस मेहरा ने भी बातचीत की. उन्होंने कहा कि मतदान समाप्त होने के समय से 48 घंटे पूर्व यानी 21 नवंबर, शनिवार शाम 5 बजे से राजनीतिक दल अथवा प्रत्याशियों द्वारा सार्वजनिक सभा आयोजित करने, जुलूस निकालने, सिनेमा, दूरदर्शन, इलेक्ट्रोनिक एवं सोशल मीडिया के माध्यम से चुनाव प्रचार करने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा. इसके साथ ही पार्टियों द्वारा संगीत-समारोह, नाट्य-अभिनय अथवा अन्य कोई मनोरंजन कार्यकम आयोजित कर चुनाव प्रचार किये जाने पर भी प्रतिबंध है.

सेवानिवृत अधिकारी ने जमीन आवंटन पर मांगी रिश्वत, ACB ने दलाल समेत किया गिरफ्तार

चुनाव आयुक्त ने आगामी चुनाव को लेकर बताया कि अजमेर, बांसवाड़ा, बाड़मेर, भीलवाड़ा, बीकानेर, बूंदी, चित्तौड़गढ़, चूरू, डूंगरपुर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जालौर, झालावाड़, झुझूंनूं, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, राजसमंद, सीकर, टोंक, और उदयपुर जिले की 65 पंचायत समितियों के 1310 सदस्यों और उनसे संबंधित जिला परिषद सदस्यों के लिए मतदान करवाया जाएगा. श्री मेहरा के मुताबिक प्रथम चरण में 10131 मतदान केंद्रों पर 72 लाख 38 हजार 66 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इसमें 37 लाख 47 हजार 347 पुरुष, 34 लाख 90 हजार 696 महिला व 23 अन्य मतदाता शामिल हैं. वहीं, सभी चरणों के मतदान सम्पन्न होने के बाद 8 दिसंबर को मतगणना होगी.

इससे इतर कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए चुनाव प्रचार के दौरान जनसंपर्कों और प्रत्याशियों से सावधानी बरतने की भी अपील की गई. चुनाव आयुक्त ने कहा कि प्रत्याशी कोरोना को ध्यान में रखते हुए केंद्र, राज्य सरकार, राज्य निर्वाचन आयोग, चिकित्सा विभाग और स्थानीय प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन अवश्य करें. कोरोना के कारण प्रचार के लिए भीड़ न इकट्ठा करने और समून न बनाने के भी निर्देश दिये गए, साथ ही कहा गया कि 5 से अधिक व्यक्ति प्रचार के लिए न जाएं. जनसंपर्क के दौरान उम्मीदवारों और उनके समर्थकों से मास्क लगाकर बाहर निकलने की भी अपील की गई. इसके साथ ही मतदाताओं के पैर छूने, गले मिलने और हाथ मिलाने से भी बचने के लिए कहा गया. मतदान दिवस पर भी उम्मीदवारों द्वारा लगाये जाने वाले बूथ पर भी सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना प्रोटोकॉल की कड़ाई से पालन करने की अपील की गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें