राजस्थान बोर्ड परीक्षा परिणाम 45 दिनों के अंदर होंगे जारी, मॉर्किंग फॉर्मूला तय

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Jun 2021, 10:08 AM IST
  • राजस्थान 10वीं और 12वीं परीक्षा परिणाम तय करने कि लिए गठित समिति की रिपोर्ट को शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने दिखाई हरी झंडी.
राजस्थान बोर्ड परीक्षाएं

राजस्थान बोर्ड परीक्षा परिणाम 2021: राजस्थान में शिक्षा विभाग की ओर से कक्षा 10 वीं और 12 वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम तय करने के लिए गठित समिति की रिपोर्ट के आधार पर शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने बुधवार को फॉर्मूला जारी कर दिया है. समिति की ओर से निर्धारित फॉर्मूले के अनुसार पिछले दो वर्षों की परीक्षाओं को आधार परिणाम बनाया जाएगा. दसवीं के स्टूडेंट्स के अंकों का निर्धारण 2019 के 8वीं की बोर्ड परीक्षा परिणाम के तहत होगा जिसका अंकभार 45 प्रतिशत रहेगा. जबकि 9वीं के अंतिम प्राप्तांको का अंकभार 25 प्रतिशत होगा. सत्रांक का अंकभार पूर्व के वर्षों के भांति 20 प्रतिशत तय है. दसवीं का अंकभार 10 प्रतिशत होगा. 

बता दें कि दसवीं के अंकों का निर्धारण विद्यालय विषय समिति द्वारा किया जाएगा जिसमें शाला प्रधान, कक्षाध्यापक और विषय पढ़ाने वाले शिक्षक शामिल होंगे. वहीं 12 वीं के विद्यार्थियों के अंक निर्धारण फॉर्मूले में 10वीं बोर्ड परीक्षा 2019 में प्राप्तांक का अंकभार 40 प्रतिशत है और 11वीं में प्रदत्त अंकभार 20 प्रतिशत. जबकि 12वीं का अंकभार 20 प्रतिशत है. सत्रांक का अंकभार पहले की तरह 20 प्रतिशत ही रहेगा. 

राजस्थान में पायलट कैंप के कांग्रेस विधायक बोले- सचिन बाहरी नहीं, भारी नेता हैं

परीक्षा परिणाम तय करने के लिए गठित समिति के अनुसार अधिकतर स्कूलों में प्रायोगिक परीक्षाओं का आयोजन हो चुका है और 40 प्रतिशत विद्यालयों में परीक्षा के बाद परिणाम भी दिए जा चुके है. जिन स्कूलों में 12वीं की प्रायोगिक परीक्षा का आयोजन नहीं किया गया है वहां गृह और चिकित्सा विभाग द्वारा आवश्यक अनुमति मिलने पर ऑनलाइन या ऑफलाइन आयोजित की जाएगी. प्राइवेट स्कूल के छात्रों या ऐसे श्टूडेंट्स जिन्होंने श्रेणी सुधार हेतु आवेदन किया है उन्हें बोर्ड द्वारा जब भी परीक्षा का आयोजन होगा तब अवसर मिलेगा.

व्यापारी से ब्लैकमेलिंग मामले में पूर्व मिस राजस्थान प्रियंका को नहीं मिली जमानत

बता दें कि समिति की ओर से तय अंक योजना में फेल हुए छात्रों को जब पूरक परीक्षा का आयोजन किया जाएगा तब फिर से परीक्षा देना होगा. तय अंक योजनाओं के आधार पर मिले परिणाम से अगर छात्र संतुष्ट नहीं होंगे तो वह बोर्ड द्वारा आयोजित किए गए परीक्षा में दोबारा बैठ सकेंगे. इस विषय में वैकल्पिक परीक्षा के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराया जाएगा और वैकल्पिक परीक्षा के ही अंको को अन्तिम परिणाम के रूप में माना जाएगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें