Rajasthan: बोर्ड रिजल्ट गड़बड़ी मामले में 2 हजार शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी

Smart News Team, Last updated: Fri, 9th Jul 2021, 1:04 AM IST
  • नोटिस मिलने वाले शिक्षा अधिकारियों में 982 व्याख्याता, 821 हेडमास्टर और 129 प्रिंसिपल शामिल है. शिक्षा विभाग ने यह नोटिस सत्र 2019-20 में 12वीं बोर्ड का 70 फीसदी और 10वीं बोर्ड में 60 फीसदी से कम परिणाम दिया गया है.
सभी शिक्षा अधिकारियों से नोटिस के जरिए 15 दिन में स्पष्टीकरण मांगा गया है.. (प्रतिकात्मक फोटो)

राजस्थान के शिक्षा विभाग ने सत्र 2019-20 में बोर्ड परीक्षाओं न्यून परीक्षा परिणाम रहने पर 1932 शिक्षा अधिकारियों को नोटिस दिए है. अतिरिक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा रचना भाटिया में इस संबंध में आदेश जारी किए हैं. जिन शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी किए गए हैं उनमें 982 व्याख्याता, 821 हेडमास्टर और 129 प्रिंसिपल हैं. सभी शिक्षा अधिकारियों से नोटिस के जरिए 15 दिन में स्पष्टीकरण मांगा गया है. अगर इनके द्वारा समय पर स्पष्टीकरण नहीं देने पर 17 सीसी की चार्जशीट में कार्रवाई की जाएगी.

गौरतलब है कि व्याख्याताओं के लिए 12वीं बोर्ड के विषय का परीक्षा परिणाम 70 प्रतिशत या उससे न्यून होने पर और 10वीं बोर्ड के विषय परिणाम 60 प्रतिशत या उससे न्यून होने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया जाता है. जबकि संस्था प्रधान के लिए 10वीं का परिणाम 50 प्रतिशत या उससे न्यून रहने पर और कक्षा 12वीं का परीक्षा परिणाम 60 प्रतिशत या उससे कम रहने पर नोटिस जारी किया जाता है. शिक्षा विभाग ने सत्र 2018-19 में कक्षा 12वीं का न्यून परिणाम रहने पर 301 प्रकरणों में संस्था प्रधानों को और 540 विषय व्याख्याताओं को कारण बताओ नोटिस जारी किए थे.

जयपुर: 27 साल से साधु के वेश में छिपे अपराधी का पुलिस ने शिष्य बनकर किया खुलासा

सबसे अधिक उदयपुर के 96 व्याख्याताओं को मिला नोटिस

माध्यमिक शिक्षा विभाग की ओर से परिक्षा परिणाम न्यून रहने पर 1982 शिक्षा अधिकारियों को नोटिस दिया है, जिनमें से सबसे अधिक 982 व्याख्याता है। प्रदेश में सबसे अधिक उदयपुर के 96 व्याख्याताओं को नोटिस दिया गया है. वहीं नोटिस मिलने के मामले में दूसरे नंबर पर अलवर है यहां क 75 व्याख्याताओं को नोटिस दिया गया है, वहीं जयपुर के 62 और बांसवाड़ा के 60 व्याख्याताओं को नोटिस दिया गया है. सबसे कम सीकर और झुंझुनूं के 10-10 व्याख्याताओं को नोटिस दिया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें