राजस्थान के 348 सरकारी विद्यालयों को महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूल बनाएगी गहलोत सरकार

Swati Gautam, Last updated: Tue, 14th Sep 2021, 6:21 PM IST
  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट घोषणाओं के क्रियान्वयन पर अमल करते हुए बड़ा फैसला लिया है जिसमें राज्य के 348 राजकीय विद्यालयों यानी गवर्मेंट स्कूलों को महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय यानी अंग्रेजी माध्यम में परिवर्तित कराया जाएगा.
राजस्थान के 348 सरकारी विद्यालयों को महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूल बनाएगी गहलोत सरकार (फाइल फोटो)

जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट घोषणाओं के क्रियान्वयन पर अमल करते हुए बड़ा फैसला लिया है. बता दें कि सीएम ने राज्य के 348 राजकीय विद्यालयों यानी गवर्मेंट स्कूलों को महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय यानी अंग्रेजी माध्यम में परिवर्तित कराया जाएगा. सीएम ने यह फैसला राज्य में अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों के संख्या बढ़ाने की जनता की मांग पूरी करने के लिए लिया गया है. उनके इस फैसले से राज्य के छात्रों की शिक्षा क्षेत्र की स्थिति और बेहतर होगी.

सीएम अशोक गहलोत की इस घोषणा की जानकारी राज्य के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट कर दी. उन्होंने लिखा कि बजट घोषणाओं को पूरा करने पर मुख्यमंत्री का फोकस है. इसी के तहत प्रदेश के कुछ राजकीय विद्यालयों को महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय (अंग्रेज़ी माध्यम) में रूपान्तरित किए जाने की स्वीकृति दी गई है. बताया जा रहा है कि इनका संचालन शैक्षणिक सत्र 2021-22 में ही किया जाएगा. स्कूलों को महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय (अंग्रेजी माध्यम) में बदलने के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं.

NEET 2021: KGMU फाइनल इयर का छात्र गिरफ्तार, कई अहम खुलासे, पूछताछ जारी

सीएम अशोक गहलोत के इस निर्देश के बाद से राज्य में अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों की संख्या बढ़ जाएगी. उनके इस फैसले से बच्चों के उन अभिभावकों को फायदा मिलेगा, जो अपने बच्चों का प्रवेश अंग्रेजी माध्यम में कराना चाहते थे. इस स्वीकृति के बाद माध्यमिक शिक्षा निदेशक की ओर से आदेश भी जारी कर दिया गया. इसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री की ओर से बजट 2021-22 की घोषणा संख्या 37 को दो वर्षों में चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाना है. इसी के क्रम में 348 राजकीय विद्यालयों को महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय (अंग्रेजी माध्यम) के रूप में परिवर्तित करने की स्वीकृति प्रदान की जाती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें