गहलोत सरकार का आदेश- प्राइवेट अस्पतालों के लिए ऑक्सीजन प्लांट लगाना अनिवार्य

Smart News Team, Last updated: Fri, 14th May 2021, 6:04 PM IST
  • राजस्थान के प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत को दूर करने के लिए गहलोत सरकार ने आदेश जारी किया है. इसके मुताबिक, अगले दो महीनों में 60 से ज्यादा बेड वाले सभी प्राइवेट अस्पतालों को ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करना होगा. इसके लिए सरकार ने राहत पैकेज घोषित किया.
राजस्थान में 60 से ज्यादा बेड वाले प्राइवेट अस्पतालों को ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने का आदेश.

जयपुर. कोरोना के संकट के बीच राजस्थान में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए गहलोत सरकार ने एक्शन प्लान बनाया है. राजस्थान सरकार ने 60 या उससे ज्यादा बेड वाले सभी प्राइवेट अस्पतालों के लिए दो महीने के भीतर ऑक्सीजन प्लांट लगाना अनिवार्य कर दिया गया है. राजस्थान सरकार के चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग नेआदेश जारी कर दिया है.

राजस्थान चिकित्सा विभाग के शासन सचिव सिद्धार्थ महाजन ने कहा कि इसके लिए सरकार के उद्योग विभाग की ओर से विशेष राहत पैकेज घोषित किया गया है. इसका लाभ लेकर प्राइवेट अस्पताल अपले यहां प्लांट की स्थापना कर सकते हैं. वहीं चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा ने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर में अस्पतालों में ऑक्सीजन की सबसे ज्यादा जरूरत है. ऐसे में सरकार सभी संभव उपायों के जरिए ऑक्सीन की व्यवस्था कर रही है. 

कोरोना से जंग हार चुकी दिल्ली की प्रेग्नेंट डॉक्टर के वीडियो को देखकर CM गहलोत बोले-यह हृदय विदारक है…

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकारी कोविड डेडीकेटेड सेंटर के अलावा प्राइवेट अस्पतालों में 60 या उससे ज्यादा बेड हैं, वहां 50 फीसदी बेड पर ऑक्सीजन की व्यवस्था जरूरी है. उन्होंने कहा कि ऐसे प्राइवेट अस्पतालों में सेंट्रलाइज ऑक्सीजन पाइप लाइन हो और कम से कम 50 प्रतिशत बेड उसे जुड़े हों. मरीजों को लगातार ऑक्सीजन मिल सकेगी. 

जयपुर में ट्रेनों पर फिर दिखने लगा कोरोना का असर, 20 ट्रेने होंगी प्रभावित

मिली जानकारी के अनुसार, राजस्थान में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस के 15 हजार 867 नए केस सामने आए हैं. वहीं 12 हजार 929 लोग कोविड से पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं. राजस्थान में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से 159 लोगों की मौत हो चुकी है. इन नए मामलों के बाद राजस्थान में कोरोना के कुल 2 लाख 11 हजार 889 एक्टिव केस हैं. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें