बजट ऐसा था जैसे काली दुल्हन को मेकअप कर दिया हो, BJP नेता का विवादित बयान

Atul Gupta, Last updated: Wed, 23rd Feb 2022, 10:39 PM IST
  • राजस्थान विधानसभा में बुधवार को पेश हुए बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया ने कहा कि बजट ऐसा था जैसे किसी काली दुल्हन को ब्यूटी पार्लर में मेकअप कर बिठा दिया गया हो.
राजस्थान बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पुनिया (फोटो- सोशल मीडिया)

जयपुर: आम तौर पर जब बजट पेश किया जाता है तो दो तरह की प्रतिक्रियाएं आती है. सत्ता पक्ष के लोग बजट की तारीफ करते हैं उसे प्रगतिशील बताते हैं और उसके फायदे गिनवाते हैं वहीं विपक्ष बजट की कमियां निकालता है. ये बड़ी आम सी बात है लेकिन बुधवार को बजट को लेकर ऐसी प्रतिक्रिया आई जिसकी किसी भी नेता से उम्मीद नहीं की जा सकती. दरअसल बुधवार को राजस्थान विधानसभा में बजट पेश किया गया. सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस ने बजट को अच्छा बताया और उसकी तारीफ में बातें गिनाई.

पत्रकार विपक्ष की प्रतिक्रिया लेने के लिए बीजेपी नेता सतीश पुनिया के पास गए. बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए डॉ. पुनिया ने कहा- 'ऐसा लग रहा है कि किसी काली दुल्हन को ब्यूटी पार्लर में ले जा के उसको अच्छे से उसका शृंगार कर के पेश कर दिया गया हो.' महिलाओं को लेकर नस्लभेदी टिप्पणी करने वाले ये नेता बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष हैं.

बजट की बुराई करने के और भी तरीके थे, बजट पर और भी उदाहरण के साथ प्रतिक्रिया दी जा सकती थी लेकिन डॉ. पुनिया ने ऐसी प्रतिक्रिया दी कि हर कोई दंग रह गया. डॉ. पुनिया क्या ये कहना चाहते हैं कि काली औरत होना गुनाह है? क्या काली औरत का कोई सम्मान नहीं होता? क्या वोट लेते वक्त आप ये देखते हैं कि काली औरत आपको वोट दे रही है या गोरी औरत वोट दे रही है? डॉ. पुनिया बीजेपी के कोई छोटे कार्यकर्ता नहीं हैं बल्कि बड़े नेता और टीवी पैनलिस्ट हैं. क्या इतने बड़े नेता को इस तरह का बयान देना शोभा देता है?

दक्षिण भारत में ज्यादातर महिलाओं का रंग सांवला होता है तो क्या हम उनकी इज्जत नहीं करते. आजादी के बाद से लेकर अबतक बीजेपी में ही कई नेता ऐसे रहे हैं जिनका रंग सांवला या काला रहा है तो लेकिन क्या उन्हें हम उनकी चमड़ी के रंग के आधार पर जज करते हैं या फिर उनकी काबिलियत के आधार पर उनका सम्मान करते हैं? इस मामले में आपकी क्या राय है हमें कमेंट कर बताएं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें