कमलेश प्रजापत एनकाउंटर में हुई CBI की एंट्री, मामले में FIR दर्ज कर जांच शुरू

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 12:37 PM IST
  • परिजनों की मांग को देखते हुए राज्य सरकार ने मामले की सीबीआई जांच के लिए सिफारिश की थी. प्रजापत समाज के लोगों ने मामले की सीबाआई जांच के लिए नागौर सांसद हनुमान बेनिवाल से मिले थे. 
राज्य सरकार की सिफारिश के बाद कमलेश प्रजापत एनकाउंटर की जांच सीबीआई ने अपने हाथ में ले ली है.

राज्य सरकार की सिफारिश के बाद कमलेश प्रजापत एनकाउंटर की जांच सीबीआई ने अपने हाथ में ले ली है. सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. अब मामले की जांच कर रही राजस्थान पुलिस की सीआइडी से सीबीआइ ने मामले की पत्रावली प्राप्त कर ली है. पूरे मामले की जांच सीबीआई दिल्ली के पुलिस उपाधीक्षक देविन्द्र कुमार को जांच सौंपी गई है. इससे पहले परिजनों की मांग को देखते हुए राज्य सरकार ने मामले की सीबीआई जांच के लिए सिफारिश की थी. 

प्रजापत समाज के लोगों ने मामले की सीबाआई जांच के लिए नागौर सांसद हनुमान बेनिवाल से मिले थे. इसके बाद बेनिवाल ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर मामले की सीबीआई जांच करवाने की मांग की थी. गौरतलब है कि साण्डेराव थानाधिकारी पर जानलेवा हमले में वांछित कमलेश प्रजापत को पकडऩे के लिए बाड़मेर पुलिस ने 22 अप्रैल की रात विष्णु कॉलोनी में मकान पर दबिश दी थी. पुलिस को देख कमलेश प्रजापत ने एसयूवी की मदद से मकान के पिछले गेट से भागने का प्रयास किया था. 

सरकारी नौकरी की परीक्षा में आया बड़ा बदलाव, अब ऐसे होंगे एग्जाम, जानें डिटेल्स

इस दौरान कमलेश प्रजापत ने एक हेड कांस्टेबल पर एसयूवी चढ़ा दी थी. पुलिस ने उसे रोकने का प्रयास किया था. कमाण्डो ने एसयूवी के टायर पर गोली चलाई थी. एक गोली कमलेश के कमर में जा लगी थी. उसे अस्पताल ले जाया गया था, जहां उसकी मृत्यु हो गई थी. पुलिस को कमलेश प्रजापत के मकान की तलाशी में 59.69 लाख रुपए नकद, पांच पिस्तौल, नौ लोडेड मैग्जीन में 121 जिंदा कारतूस, 13 मोबाइल, एक डोंगल, बीएमडब्ल्यू सहित 11 वाहन, अफीम का 2.36 किलो दूध, 1.715 किलो डोडा पोस्त बरामद किया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें