दर्दनाक: तालाब में डूब रही बहन को बचाने कूद गईं तीन बहनें, चारों की मौत

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Sat, 16th Oct 2021, 7:27 PM IST
  • राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में एक ही घर की चार बेटियों का तालाब में डूबने से मौत हो गई. चारों सुबह गांव के बाहर स्थित तालाब में नहाने गई थी. जहां पर एक का पैर फिसलने से घहरे पानी में चली गई और वह डूबने लगी. जिसे डूबता देंख बाकि उसे बचाने गई. वह भी तालाब में डूब गई. जिससे सभी की मौत हो गई.
राजस्थान में एक ही घर की 4 बेटियां तालाब में डूबी, नहाने वक्त हुआ हादसा

जयपुर. राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले के रावतभाटा क्षेत्र चार बहने एक साथ तालाब में डूब गई. चरों बालिका नहाने के लिए तालाब गई थी. जहां नहाने के दौरान एक बालिका पैर फिसल गया. जिससे वह गहरे पानी में चली गई. जिसे बचाने के लिए बाकि तीन बालिकाएं भी गहरे पानी की तरफ गई. जहां पर एक को बचाने के चक्कर में बाकि तीन बालिकाएं में भी गहरे में पानी समा गई.

पुलिस के अनुसार चार बालिकाओं का एक साथ तालाब में डूबने कि घटना तमलाव गांव की है. जहां पर ग्राम निवासी पप्पु सिंह राजपूत की दो बेटियां आशा और निशा व भाई सुरेंद्र सिंह राजपूत की बच्चियां चिंकी एवं निकी गांव के बाहर स्थित तालाब ने नहाने गई थी. जहां पर एक बालिका का पैर फिसलने से वह गहरे पानी में चली गई और वह डूबने लगी. बहन को डूबता हुआ देंख बाकि की तीन बहने उसे बचाने के लिए गहरे पानी में की तरफ चली गई. जिसके बाद वह तीनों भी गहरे पानी में समा गई.

11 साल की छात्रा से दुष्कर्म करने वाला शिक्षक गिरफ्तार, चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर पर की थी शिकायत

सुबह से निकली बेटियां पर जब घर दोपहर तक वापस नहीं आयी तो परिजन उनकी तलाश में तालाब पर पहुंचे. जिसके बाद उन्हें बेटियों का तालाब में डूबने का पता चला. जिसके बाद परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. सूचना मिलते ही पुलिस गोताखोरों के साथ तालाब पर पहुंची. जिसकी मदद से चारों बालिकाओं को तालाब से बाहर निकाला गया, लेकिन तब तक सभी की मौत हो चुकी थी. जिसके बाद पुलिस ने चारों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. 

चार बालिकाओं की तालाब में डूबने की सूचना मिलते ही गांव वालों की भीड़ इकठ्ठा हो गई. वहीं चारों बालिकाओं की मौत से गांव में शोक व्याप्त हो गया है. पुलिस ने इस घटना को अकाल मौत का प्रकरण में दर्ज किया है. बताया जा रहा है कि तालाब में डूबकर मरने वाली चारों बालिकाओं की उम्र दस से बारह वर्ष थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें