राजस्थान निकाय चुनाव : कांग्रेस की जीत फिर भी 25 में से 6 विधायक ही रहे कामयाब

Smart News Team, Last updated: 15/12/2020 01:14 PM IST
  • विधायक गुरमीत कुन्नर ने अपने विधानसभा की चारों नगर पालिकाएं कांग्रेस के खाते में डाली. कांग्रेस विधायक बाबूलाल और हीरालाल अपने विधानसभा में भाजपा को बोर्ड बनाने से नहीं रोक पाए. राजधानी जयपुर की सभी 10 निकायों में भाजपा का सूफड़ा साफ हो गया, जबकि कांग्रेस को 5 में स्पष्ट बहुमत मिला है.  
सांकेतिक फोटो

जयपुर. प्रदेश में 11 दिसंबर को हुए 12 जिलों की 50 नगर निकायों का परिणाम रविवार को आया. इस परिणाम में कांग्रेस भाजपा को मात देने में कामयाब तो रही, लेकिन खुद की सरकार होने के बाद भी ज्यादातर विधायकों का प्रदर्शन निराश करने वाला रहा. जहां पर ये निकाय चुनाव हुए, वहां से कांग्रेस के 25 विधायक चुनकर आए हैं, लेकिन इनमें से 6 विधायक ही ऐसे हैं जिन्होंने अपने विधानसभा की निकायों में कांग्रेस को बहुमत दिलाने में कामयाबी पाई. 

कांग्रेस विधायकों वाले क्षेत्रों में 30 निकायों में चुनाव हुए, इनमें से 6 विधायक ही 9 निकायों में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत दिला पाए. कांग्रेस विधायकों में सबसे शानदार प्रदर्शन गुरमीत सिंह कुन्नर का रहा. कुन्नर के विधानसभा में सबसे अधिक चार पालिकाएं हैं और कुन्नर ने इन सभी में कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत दिलाने में कामयाबी पाई है. वहीं कांग्रेस विधायक बाबूलाल और हीरालाल अपने विधानसभा में भाजपा को बोर्ड बनाने से नहीं रोक पाए. कांग्रेस विधायकों के क्षेत्र में 7 पालिकाएं ऐसी रही, जहां पर निर्दलीयों को पूर्ण बहुमत मिला है. वहीं 11 पालिकाओं में किसी को बहुमत नहीं मिला है. यहां भाजपा और कांग्रेस को बोर्ड बनाने के लिए निर्दलीयों के सहारे का इंतजार है.

राजस्थान में वासवा की बीटीपी और ओवैसी की एआईएमआईएम के बीच गठबंधन की चर्चा

 गौरतलब है कि किसान आंदोलन के बीच प्रदेश के 12 जिलों की 43 नगर पालिकाओं एवं 7 नगर परिषदों के लिए 11 दिसंबर को चुनाव हुए थे. इनमें से 4 में भाजपा को बहुमत मिला, जबकि कांग्रेस 15 निकायों में स्पष्ट बहुमत लेने में कामयाब रही. राजधानी जयपुर की सभी 10 निकायों में भाजपा का सूफड़ा साफ हो गया, जबकि कांग्रेस को 5 में स्पष्ट बहुमत मिला है. पिछले चुनाव में भाजपा ने इन 50 निकायों में से 34 में अपने बोर्ड बनाए थे, जिनमें से ज्यादातर इस चुनाव में ढह गए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें