CM गहलोत ने अल्पसंख्यक समुदाय के विकास को 100 करोड़ के संशोधित प्रस्ताव को दी मंजूरी

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 18th Jan 2022, 9:28 AM IST
  • राजस्थान की गहलोत सरकार ने कल सोमवार को अल्पसंख्यक समुदाय के समावेशी विकास के लिए गठित 100 करोड़ रुपए के विकास कोष से विभिन्न योजनाओं में 98 करोड़ 55 लाख रुपए व्यय करने के संशोधित प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की है.
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कल सोमवार को अल्पसंख्यक समुदाय के समावेशी विकास के लिए गठित 100 करोड़ रूपए के विकास कोष से विभिन्न योजनाओं में 98 करोड़ 55 लाख रूपए व्यय करने के संशोधित प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की है. इस बात की जानकारी खुद सीएम गहलोत ने अपने ट्विटर के माध्यम से दी है. सीएम गहलोत ने ट्वीट करते हुए लिखा कि इस मंजूरी से अल्पसंख्यक समुदाय को कौशल विकास, शैक्षणिक गतिविधियों एवं रोजगार के बेहतर अवसर सुलभ हो सकेंगे साथ ही इन समुदायों के समग्र विकास में सुगमता होगी. वहीं सीएम ने लिखा कि प्रदेश के 11 शिक्षण संस्थानों में चल रहे टेक्नीकल एजुकेशन क्वालिटी इम्प्रूवमेंट प्रोग्राम के तृतीय चरण को 31 मार्च, 2022 तक संचालित करने की मंजूरी दी है. साथ ही इस परियोजना के संचालन के लिए 9 करोड़ रूपये के अतिरिक्त बजट प्रावधान की भी स्वीकृति दी है.

यह परियोजना 30 सितंबर, 2021 तक शत-प्रतिशत केन्द्रीय सहायता के माध्यम से संचालित थी. इस परियोजना को 31 मार्च, 2022 तक राज्य निधि से संचालित करने का महत्वपूर्ण निर्णय करते हुए 9 करोड़ की राशि स्वीकृत की है. वहीं सीएम ने लिखा कि ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को कृषि आदान-अनुदान का भुगतान करने हेतु श्रीगंगानगर जिले के 7 गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया है. गत वर्ष 23 अक्टूबर को श्रीगंगानगर की अनूपगढ़,विजयनगर तहसील में ओलावृष्टि से खरीफ की फसलों में हुए नुकसान को देखते हुए विशेष गिरदावरी के निर्देश दिए गए थे.

बिना ब्याज 50 हजार का लोन दे रही गहलोत सरकार, आपको भी मिलेगा, ऐसे करें अप्लाई

इसके साथ ही सीएम गहलोत ने अलवर केस पर कहा कि राज्य सरकार ने अलवर विमंदित बालिका के प्रकरण की जांच CBI को सौंपे जाने का निर्णय लिया है. इसके लिए राज्य सरकार की ओर से जल्द केंद्र सरकार को अनुशंसा भेजी जाएगी. वहीं कोरोना पर सीएम गहलोत ने कहा राज्य में सभी वर्गों में कोविड टीकाकरण का प्रतिशत राष्ट्रीय औसत से अधिक है. अब तक 18 वर्ष से अधिक आयु के 94 प्रतिशत लोगों को टीके की पहली डोज दी जा चुकी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें