राजस्थान में ऑक्सीजन की किल्लत दूर करने के लिए CM गहलोत ने बनाया ये खास प्लान

Smart News Team, Last updated: Fri, 30th Apr 2021, 5:02 PM IST
  • राजस्थान में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने गहलोत सरकार ने मेडिकल ऑक्सीजन निर्माताओं के लिए विशेष पैकेज की घोषणा की है. इसमें सरकार ने उद्यमियों को कई प्रकार की छूट दी है. उद्यमी को किसी भी हालत में 1 सितंबर 2021 तक उत्पादन शुरू करना होगा.
गहलोत सरकार ने ऑक्सीजन निर्माताओं के लिए विशेष पैकेज का ऐलान किया.

जयपुर. कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों की वजह ऑक्सीजन की घोर किल्लत हो रही है. इसी बीच ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए गहलोत सरकार ने मेडिकल ऑक्सीजन निर्माताओं के लिए स्पेशल पैकेज का ऐलान किया है. इसके लिए राजस्थान सरकार 25 फीसदी अनुदान भी देगी. 1 करोड़ रुपए का निवेश कर उत्पादन शुरू करना होगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए उद्योग विभाग को इस पैकेज का क्रियान्वन करने के निर्देश दिए हैं.

राज्य सरकार के एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, एक करोड़ रुपए का निवेश कर 30 सितंबर 2021 तक उत्पादन प्रारंभ करना आवश्यक होगा. इस बारे में राजस्थान सरकार ने कहा कि इन उद्यमियो को राजस्थान एमएसएमई एक्ट 2019 के प्रावधानों के अनुसार, 3 सालों में राज्य सरकार के संबंधित विभागों की नियामक स्वीकृतियों और निरीक्षणों से छूट दी जाएगी. 

कोरोना काल में ऑक्सीजन, बेड और दवाई खोजने में ये सभी वेबसाइट कर सकती है आपकी मदद

आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार, इस पैकेजे के अंतर्गत उद्यमी को कम से कम 1 करोड़ रुपए का निवेश कर 30 सितंबर 2021 तक उत्पादन शुरू करना जरूरी होगा. इसके अलावा केन्द्र सरकार से संबंधित विभागों से भी जरूरी परमिशन दिलवाने, बिजली और पानी कनेक्शन की व्यवस्थाएं जल्द से जल्द उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार विशेष सहयोग करेगी.

कोरोना का कहर: राजस्थान में 3 मई के बाद भी लॉकडाउन जैसी पाबंदियां रहेंगी जारी

राजस्थान सरकार के इस पैकेज के तहत प्लांट, मशीनरी और अन्य चीजों पर किए खर्च के 25 फीसदी तक की राशि पूंजीगत अनुदान के रूप में दो किश्तों में दी जाएगी. जिसमें अनुदान की पहली किश्त प्लांट, मशीनरी खरीद के लिए जारी हुए आदेश की काॅपी देने पर और दूसरी किश्त उत्पादन शुरू करने के बाद निवेश के साक्ष्य देने पर दी जाएगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस पैकेज को क्रियान्वित करने के लिए उद्योग विभाग को आदेश दिए हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें