विदेशों में शिक्षा लेने वालो छात्रों का पूरा खर्च उठाएगी गहलोत सरकार, स्कॉलरशिप की घोषणा

Smart News Team, Last updated: Sun, 22nd Aug 2021, 8:01 AM IST
  • राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के 77वें जन्मदिन पर बड़ा फैसला लिया है. राजीव गांधी स्कॉलरशिप फॉर एकेडमिक एक्सीलेंस के तहत विदेश में पढ़ने वाले राज्य के 200 मेधावी छात्रों का खर्च सरकार उठाएगी.
राजस्थान के मुख्मंत्री अशोक गहलोत.( फाइल फोटो )

जयपुर. राजस्थान सरकार ने राज्य मेधावी विद्यार्थियों को बड़ी सौगात देने वाली है. शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी के 77वें जन्मदिवस के मौके पर सीएम अशोक गहलोत ने वर्चुअल माध्यम से राजस्थान इनोवेशन विजन राजीव-2021 प्रोग्राम का आयोजन किया. समारोह की थीम सूचना तकनीकी से सुशासन है. आजोयित कार्यक्रम में सरकार ने स्टार्ट-अप के क्षेत्र में उपलब्धि हासिल करने वाले युवा छात्रों को राजीव गांधी इनोवेशन अवार्ड(Rajiv Gandhi Innovation Award) देने का फैसला किया है. इसके अलावा सरकार ने 'राजीव गांधी स्कॉलरशिप फॉर एकेडमिक एक्सीलेंस' के तहत 200 मेधावी छात्रों में विदेश में शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति देने के फैसला किया है.

गहलोत सरकार ने राजीव गांधी इनोवेशन अवार्ड के तहत प्रथम, द्वितीय और तीसरे स्थान पर आने वालों को पुरस्कार देने का फैसला किया है. इसमें प्रथम पुरस्कार के रुप में 2 करोड़ रूपए, द्वितीय पुरस्कार के रूप में 1 करोड़ रूपए और तृतीय पुरस्कार के रूप में 50 लाख रूपए की राशि दी जाएगी. शुक्रवार को हुए बैठक में सरकार ने बताया कि प्रदेश में 14 नवंबर से ‘राजीव गांधी युवा कोर’ का शुभारंभ भी किया जाएगा. साथ ही राज्य के 200 मेधावी छात्रों का देश-विदेश में पढ़ने का खर्चा सरकार उठाएगी. इस योजना पर सरकार हर साल लगभग 100 करोड़ रुपये खर्च करेगी.

राजस्थान में पूर्व CM वसंधुरा राजे का विकल्प बनने के सवाल पर भूपेंद्र यादव का बड़ा बयान

सरकार ने शहरी क्षेत्रों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में स्टार्ट-अप का विस्तार करने का फैसला किया है. इसके लिए सरकार जोधपुर में करीब 400 करोड़ रूपए की लागत से फिनटेक यूनिवर्सिटी की स्थापना करने जा रही है. साथ ही जयपुर में करीब 200 करोड़ रूपए की लागत से राजीव गांधी सेंटर ऑफ एडवांस टेक्नोलॉजी की स्थापना भी की जा रही है. इसके माध्यम से युवाओं को सूचना तकनीक के नए पाठ्यक्रमों का अध्ययन करने का अवसर मिलेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें