CM गहलोत बोले- कोरोना के लिए नेता भी दोषी, चाहते तो कर सकते थे वर्चुअल रैली

Smart News Team, Last updated: Fri, 16th Apr 2021, 4:48 PM IST
  • कोरोना संक्रमण के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा कि संक्रमण फैलाने में हम राजनेता भी काफी हद तक दोषी है. अगर नेता चाहते तो वुर्चअली तरीके से रैली हो सकती थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ. उन्होंने पीएम नरेन्द्र मोदी से आग्रह किया कि राज्यों से विस्तार से चर्चा करनी चाहिए.
राजस्थान में 17 अप्रैल को 3 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है.

जयपुर. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राजस्थान में शनिवार को 3 विधानसभा में होने वाली वोटिंग के लिए खास छूट दे दी है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सोनिया गांधी ने ठीक ही कहा है कि कोरोना संक्रमण फैलाने में हम राजनेता भी काफी हद तक दोषी है. अगर नेता चाहते तो वुर्चअली तरीके से रैली हो सकती थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा कि एक तरफ तो हम पब्लिक को कोविड प्रोटोकॉल फॉलो करने के लिए कहते हैं और दूसरी तरफ चुनाव में लाखों लोगों की भीड़ की रैलियां और रोड शो होते रहे. उन्होंने कहा कि ऐसा सब बिहार चुनाव से ही हो रहा है. राजनेता चाहते तो वर्चुअली रैली जैसे विकल्पों का इस्तेमाल कर भीड़ इकट्ठा होने से रोक सकते थे.

कोरोना की मार के बीच CM गहलोत की नई कोरोना गाइडलाइन, BJP नेता भी कर रहे तारीफ

अशोक गहलोत ने दूसरे ट्वीट में कहा कि चुनाव आयोग अपने कर्तव्यों को मानते हुए चुनावों की घोषणा करता रहा. नेताओं ने जमकर प्रचार किया और भीड़ आती रही. उन्होंने कहा कि ज्यूडिशियरी और चुनाव आयोग भी अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकते हैं. सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट ने राज्यों के विरोध के बावजूद पंचायतों और स्थानीय निकायों के चुनाव करवाने के आदेश दिए.

कोरोना का नया स्ट्रेन बच्चों को भी बना रहा शिकार, नहीं निकलने दें घर से बाहर

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अब कोरोना का नया रूप प्रकट हुआ है और देश में भयावह स्थिति बनती जा रही है. लॉकडाउन और कर्फ्यू लगाने जैसे सख्त फैसले करने पड़ रहे हैं. सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री जी को पूर्व की तरह से राज्यों से विस्तार से चर्चा करनी चाहिए. आपको बता दें कि राजस्थान में शाम 6 बजे सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू कर दिया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें