डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस सिलेंडर के दाम कम करे केंद्र सरकार: सीएम अशोक गहलोत

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 03:42 PM IST
  • राज्यस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से मांग की है कि वह पेट्रोल, डीजल और एलपीजी सिलेंडर के दाम को करें. कोरोना कारण देश लोग आर्थिक तंगी झेल रहे है . जिससे दाम के बढ़ने पर उनके ऊपर अतिरिक्त बोझ पढ़ रहा है.
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

जयपुर: देश में बढ़ती ईंधन की कीमतों को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चिंता व्यक्त की है. गुरुवार को सीएम गहलोत ने ट्वीट करके लोगों को डीजल, पेट्रोल और एलपीजी सिलेंडर की दरों को कम करने की मांग की है. गहलोत ने कहा कि यूपीए के समय में अंतराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत ज्यादा थी. फिर भी सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दाम को नही बढ़ने दिया था. लेकिन आज कच्चे तेल के दाम कम है फिर भी सरकार तेल के दामों के कम नहीं कर रही है.

सीएम गहलोत ने ट्वीट किया, “कोरोना महामारी के दौरान केंद्र सरकार द्वारा डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि आम आदमी के साथ विश्वासघात है. यूपीए सरकार के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें $ 120 प्रति बैरल थीं, लेकिन पेट्रोल और डीजल की कीमतें 70 रुपये प्रति लीटर थीं.” लेकिन एनडीए सरकार के दौरान कच्चे तेल की कीमत $ 50 प्रति बैरल पर आ गई है. फिर भी सरकार लगातार डीजल, पेट्रोल पर पैसे बढ़ा रही है. गहलोत ने कहा जब किसी राज्य में चुनाव होते है तो केंद्र सरकार डीजल और पेट्रोल की कीमतों को स्थिर करती है, लेकिन चुनाव खत्म होते ही कीमतों में फिर से बढ़ोतरी होती है.

जयपुर में मास्क नहीं लगाने वालों की खैर नहीं, चार घंटे में 831 लोगों के चालान

एक अन्य ट्वीट में सीएम ने कहा, "कल, रसोई गैस की कीमतों में 50 रुपये की वृद्धि करके, मोदी सरकार ने आम आदमी का बजट बिगाड़ दिया है." केंद्र सरकार द्वारा एलपीजी सब्सिडी को समाप्त कर दिया गया है, जिसके कारण उज्ज्वला योजना के तहत कनेक्शन पाने वाले गरीब लोग भी अपने सिलेंडर को रिफिल नहीं कर पा रहे हैं.” उन्होनें कहा कि कोरोना महामारी के समय में जब सरकार को लोगों की मदद करनी चाहिए. केंद्र सरकार लोगों पर मुद्रास्फीति का बोझ डाल रही है.

सीएम गहलोत ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कृषि कानूनों पर पुनर्विचार करने को कहा

जयपुर में जारी रहेगा नाइट कर्फ्यू, कंटेनमेंट जोन में फिर लगेगा लॉकडाउन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें