राजस्थान: अशोक गहलोत के बयान पर मिले खास संकेत, बोले- 3 का आंकड़ा हमेशा साथ रहा

Srishti Kunj, Last updated: Mon, 27th Dec 2021, 1:34 PM IST
  • राजस्थान में अशोक गहलोत के बयान सियासत में आग में घी का काम कर रहे हैं. एक तरफ उन्होंने कुबूल कर लिया है कि उनके और सचिन पायलेट के बीच विवाद रहा. लेकिन इस बार सियासत उनके दूसरे बयान पर छिड़ी है. उन्होंने कहा कि उनका और 3 के आंकड़े का साथ रहा. इसी बयान पर कई संभावना जाहिर हो रही हैं.
अशोक गहलोत का एक बयान खासा चर्चा में है

जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस में फूट और सरकार और संगठन में तालमेल नहीं रहने की बात सार्वजनिक रूप से मानी थी. उन्होंने अपने बयान में ये भी कहा था कि तीन का आंकड़ा हमेशा उनके साथ रहा है. अशोक गहलोत और सचिन पायलेट के गुट में बयानबाजी से उनके टकराव सभी के सामने आ रहे थे अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस बात को खुद स्वीकार भी कर लिया है. हालांकि उनके 3 के आंकड़े वाले बयान पर सियासी मायने निकलने लगे हैं. 

बता दें कि अशोक गहलोत ने कहा कि वे तीन बार केंद्रीय मंत्री, तीन बार पीसीसी अध्यक्ष और तीन बार मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिला. गौरतलब हो की बतौर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का यह तीसरा कार्यकाल होगा. सबसे पहले 1998 में, दोबारा 2008 में और तीसरी बार 2018 में अशोक गहलोत ने राजस्थान सीएम कुर्सी पर कब्जा किया. इसी के आधार पर संभावना जताई जा रही है कि इस बार कांग्रेस उन्हें सीएम सीट का दावेदार भी नहीं बनाएगी. 

PM मोदी पर राकेश टिकैत ने साधा निशाना, बोले- प्रधानमंत्री देश का पार्टी का नहीं

वहीं आंकड़े देखे जाएं तो राजस्थान में कभी एक सरकार अगली बार रिपीट नहीं हुई. हो सकता है कि अगली बार कांग्रेस राजस्थान विधानसभा चुनाव ना जीते. हालांकि राजस्थान में विधानसभा चुनाव में करीब दो साल का समय है और तब क्या होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें