पेट्रोल-डीजल की कीमतों के लेकर CM गहलोत ने PM मोदी को लिखी चिठ्ठी, बोले- और कम करें एक्साइज ड्यूटी

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 7:40 PM IST
  • राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर चिठ्ठी लिखा है. जिसमें सीएम गहलोत ने पीएम मोदी से पेट्रोल और डीजल पर लगने वाले एक्साइज ड्यूटी और कम करने की मांग की है. साथ ही तेल कंपनियों पर रोजाना कीमतों में बढ़ोतरी को रोकने के लिए पाबंद करने के लिए भी कहा है.
पेट्रोल-डीजल की कीमतों के लेकर CM गहलोत ने PM मोदी को लिखी चिठ्ठी, बोले- और कम करें एक्साइज ड्यूटी

जयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा. सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार से अपेक्षा की गई थी कि अतिरिक्त 10 रुपए प्रति लीटर और डीजल पर अतिरिक्त 15 रुपए प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी कटौती की अपेक्षा की गई है. जिससे प्रदेश सरकार द्वारा लगाए जा रहे है वैट में भी पेट्रोल एयर डीजल की कमी होगी. साथ ही यह भी कहा कि ऐसा होने से राज्य सरकार के राजस्व में 3500 करोड़ रुपए सालाना की हानि होती है.

इसके साथ ही सीएम गहलोत ने प्रधानमंत्री से भी यह भी आग्रह किया है कि तेल कंपनियों को पेट्रोल और डीजल के दामों में लगातार की जा रही बढ़ोतरी पर रोक लगाने की मांग किया है. साथ ही भी कहा कि अगर ऐसी तेल कंपनियां रोज बढ़ाती रही तो राज्य सड़कर द्वारा दी जा रही राहत कोई औचित्य नहीं रह जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पेट्रोल डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी को कम कर राज्यों के हिस्से को घटाया जा रहा है और वही विशेष एक्साइज ड्यूटी एयर अतिरी एक्साइज ड्यूटी को लगातार बढाया जा रहा है. जिससे राज्यों को हिस्सा नहीं मिलता है.

ऑडी कार से लोगों को कीड़े-मकोड़ों की तरह कुचलता गया रईसजादा, दिल दहला देगा Video

इसके साथ ही सीएम अशोक गहलोत ने अपने पत्र में आगे लिखा कि विकास योजनाओं के लिए राजस्व जुटाने के किए कर लगाने का राज्यों को संविधान में अधिकार दिया गया है. साथ ही उन्हीने वित्तीय संघवाद पर बोलते हुए कहा कि केंद्र द्वारा पेट्रोल ऑड डीजल पर अतिरिक्त एक्साइज ड्यूटी और विशेष ड्यूटी को पहले अत्यधिक बढ़ाना और बाद में इसे कम कर देना प्रतिस्पर्धात्मक माहौल बनाता है. जो सहकारी संघवाद के खिलाफ है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें