सिलेंडर से मिलेगी मुक्ति, राजस्थान में अब पाइपलाइन से हर घर गैस पहुंचाने की तैयारी

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 6:00 PM IST
  • राजस्थान में जल्द लोगों को सिलेंडर के झंझट से छुटकारा मिलने वाला है. राज्य में गहलोत सरकार ने सीजीडी विकसित करने के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी है. जिसके जरिए जल्द ही लोगों के घर तक सीएनजी पाइपलाइन के जरिए गैस पहुंचाई जाएगी.
सिलेंडर से मिलेगी मुक्ति राजस्थान में अब पाइपलाइन से हर घर गैस पहुंचाने की तैयारी

जयपुर. प्रदेशवासियों को अशोक गहलोत की सरकार बड़ी सौगात देने की तैयारी कर रही है. प्रदेश सरकार ने सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क (सीजीडी) को लेकर गाइडलाइंस जारी कर दी है. गाइडलाइन के बाद प्रदेश में गैस पाइपलाइन, प्रेशर रेगुलेटिंग स्टेशन और सीएनजी स्टेशन स्थापित करने के निर्देश दे दिए गए हैं. इस सिस्टम के बाद प्रदेश में भूमिगत गैस पाइपलाइन के जरिए नेचुरल गैस की सप्लाई की जाएगी.

जल्द शुरू की जाएगी भूमि आवंटन की प्रक्रिया

गाइडलाइन जारी होने के बाद राज्य सरकार अब जल्द ही भूमि आवंटन की नीति भी शुरू करने जा रही है. इसके लिए नेशनल हाईवे, स्टेट हाईवे और अन्य सड़कों पर जमीन का आवंटन करेगी, जो 1000 वर्ग मीटर के करीब होगी. इस दौरान सड़क टूटने पर इसकी मरम्मत का काम भी फर्म का ही होगा. 

जयपुर: थाना परिसर में फेसबुक लाइव आकर युवक ने खाया जहर, पुलिसकर्मियों में मचा हड़कंप

सड़कों को कम से कम खुदाई का रखा जाएगा ध्यान

गाइडलाइंस के अनुसार, पाइप लाइन डालने के लिए ऐसी तकनीक का प्रयोग होगा, जिससे सड़कों की कम से कम खुदाई होगी. इसके लिए खुदाई शुरू करने से पहले ही फर्म को बैंक गारंटी देनी होगी. इस दौरान जो सड़क टूटेगी, उसका मरम्मत फर्म ही कराएगी. साथ ही एक चरण का काम पूरा होने के बाद उसके निरीक्षण और एनओसी जारी होने के बाद ही फर्म को दूसरे चरण का काम करने की अनुमति दी जाएगी.

राजस्थान में 31 हजार शिक्षकों की भर्ती, REET परीक्षा से जुड़ेंगे 90 फीसदी मार्क्स

जिले स्तर पर बनाई जाएगी डिस्ट्रिक्ट लेवल गैस कमेटी

गैस डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क स्थापित करने के लिए हर जिले में कमेटी बनाई जाएगी. इस कमेटी की अध्यक्षता जिला कलेक्टर करेंगे. जिसमें पुलिस अधीक्षक समेत जिले के कई वरिष्ठ अधिकारी कमेटी का सदस्य बनाया जाएगा. वहीं, राज्य स्तर पर भी कमेटी बनाई जाएगी. जिसका अध्यक्ष चेयरमैन यूडीएच के प्रमुख सचिव होंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें