कांग्रेस कलह में अब फोक म्यूजिक की एंट्री, पायलट के घर पर गूंजे इस समाज के गीत

Smart News Team, Last updated: Sat, 26th Jun 2021, 7:42 PM IST
  • राजस्थान कांग्रेस में चल रही कलह में अब लोक संगीत की भी एंट्री हो गई है. गहलोत समर्थक एक निर्दलीय विधायक की टिप्पणी के बाद शनिवार को सचिन पायलट के बंगले पर मीणावाटी समाज की महिलाओं ने लोक संगीत के साथ गीत गाकर गहलोत गुट के निर्दलीय विधायक को जवाब दिया.
फोटो क्रेडिट - सचिन पायलट ( ट्विटर )

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच जारी आपसी खींचतान के बीच अब फोक म्यूजिक की एंट्री हो गई है. बता दें कि सचिन पायलट के बंगले पर मीणा समाज की महिलाओं ने रसिया गाकर उनका स्वागत किया. जानकारी के मुताबिक पूर्वी राजस्थान के जिलों से मीणा समाज की महिलाओं का एक प्रतिनिधिमंडल सचिन पायलट से मुलाकात करने के लिए आया था. सचिन पायलट ने मीणा समाज की महिलाओं से खूब चर्चा की साथ ही मिठाई भी खिलाई. इस पूरे प्रकरण को राजस्थान कांग्रेस में जारी उठापठक से जोड़कर देखा जा रहा है.

बता दें कि बीते दिनों अशोक गहलोत के समर्थक निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा ने सचिन पायलट पर जाति विशेष की राजनीति करने का आरोप लगाया था. इसके बाद पायलट समर्थक मीणा विधायकों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी. अब मीणा समाज की महिलाओं का सचिन पायलट से मिलकर उनका मीणावाटी गीतों के जरिए स्वागत करने को उन आरोपों का जवाब देने के तौर पर देखा जा रहा है.

 

https://twitter.com/SachinPilot/status/1408735508851740673

फोन टैपिंग मामले पर केंद्रीय मंत्री शेखावत बोले, वॉइस सैंपल देने को हैं तैयार

पायलट परिवार का पूर्वी राजस्थान से पिछले 41 साल से लगातार मजबूत संबंध रहा है. यहां उनका एक बड़ा समर्थक वर्ग है. बता दें कि सचिन पायलट के पिता राजेश पायलट ने सबसे पहले 1980 में भरतपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ा था. भरतपुर के बाद राजेश पायलट पूर्वी राजस्थान के ही दौसा से लगातार चुनाव लड़े और जीते. राजेश पायलट के निधन के बाद सचिन पायलट भी दौसा से सांसद रहे.

नोटिस के बाद शेखावत के इस ट्वीट पर राजनीति, जोशी बोले- ACB का पता भेजूं

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें