बुजुर्ग ने की लापता बेटे को खोजने की फरियाद, मंत्री बोले- अबतक कहां मरा पड़ा था?

Atul Gupta, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 2:58 PM IST
  • राजस्थान के कैबिनेट मंत्री परसादी लाल मीणा से एक बुजुर्ग अपने खोए हुए बेटे को ढूढ़ने की फरियाद लेकर मिला लेकिन परसादी लाल मीणा ने मदद की बजाय बुजुर्ग को दुत्कार कर भगा दिया. इस घटना का वीडियो वायरल हो रहा है.
राजस्थान सरकार में मंत्री परसादी लाल मीणा

जयपुर: नेताओं को जन प्रतिनिधि भी कहा जाता है. जन प्रतिनिधि मतलब जनता का प्रतिनिधित्व करने वाला. लेकिन कुछ नेता सत्ता की कुर्सी पाकर खुद को राजा मानकर जनता के साथ बुरा व्यवहार करने लगते हैं. ऐसा ही एक मामला राजस्थान से सामने आया है जहां अशोक गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री परसादी लाल मीणा से मिलने एक बुजुर्ग आया. बुजुर्ग का कहना था कि उनका बेटा दो साल से लापता है और उसका कोई सुराग नहीं मिल रहा. बुजुर्ग ने हाथ जोड़कर मंत्री जी से अपने बेटे को खोजने की गुहार लगाई लेकिन सत्ता के नशे में चूर परसादी लाल मीणा ने बुजुर्ग से कहा- दो साल से क्या मरा पड़ा था? भाग जा.

बुजुर्ग मितलाल के मुताबिक उसके छोटे बेटे बुद्धिप्रकाश को 18 सितंबर, 2019 को लोहे की ढलाई के काम की तलाश में महाराष्ट्र जाने के लिए लालच दिया गया था. तब से कंपनी वालों ने उनके बेटे को गांव लौटने की अनुमति नहीं दी. मितलाल ने परसादी लाल मीणा को बताया कि जब भी वह महाराष्ट्र से वापस अपने गांव लौटने की बात करता है तो उनके बेटे को जान से मारने की धमकी दी जाती है.

बुजुर्ग ने कहा कि आखिरी बार 2 नवंबर, 2019 को अपने बेटे बुद्धिप्रकाश से बात की थी. बुजुर्ग ने 10 दिसंबर, 2019 को दो लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, जो उनके बेटे को ले गए थे. हालांकि, पुलिस ने लंबे समय तक कोई कार्रवाई नहीं की. मितलाल ने कांग्रेस मंत्री से अपने बेटे के लिए मदद की गुहार लगाई. लेकिन बजाए शालीनता के साथ बुजुर्ग को सांत्वना देने के मंत्री परसादी लाल मीणा बुजुर्ग शख्स और साथ में आए व्यक्ति पर बिफर गए.

मंत्री ने कहा कि क्या पिछले 2 साल से मर गए थे? कांग्रेस नेता ने चिलल्लाते हुए उन्हें बाहर निकलने का आदेश दिया. घटना का यह वीडियो दैनिक भास्कर द्वारा सोशल मीडिया पर साझा किया गया.

बता दें कि पहले भी परसादी लाल मीणा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. उस वीडियो में मंत्री मीणा महिला शौचालय का उपयोग करते हुए दिखे थे. उनका एक बयान भी खूब चर्चा में आया था. उन्होंने दावा किया था कि देश में ऐसा कोई ईमानदार तहसीलदार नहीं है जो रिश्वत ना लेता हो.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें