सांडों की लड़ाई में गई थी युवक की जान, कोर्ट ने की नगर परिषद की संपत्ति कुर्क

Ruchi Sharma, Last updated: Sat, 11th Dec 2021, 11:32 AM IST
  • राजस्थान में 2018 में दो सांड़ों की लड़ाई में युवक की मौत हो गई थी. इस मामले में राजस्थान कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है. कोर्ट ने बूंदी नगर परिषद की संपत्ति कुर्क करके उक्त राशि का भुगतान करने के आदेश जारी किए हैं. कोर्ट के आदेश के बाद बूंदी नगर परिषद प्रशासन में हड़कंप मच गया.
जयपुर: सांडों की लड़ाई में गई थी युवक की जान,कोर्ट ने की नगर परिषद की संपत्ति कुर्क

जयपुर. शहर के मुख्य बाजार की सड़कों, हाइवे से लेकर गली-मोहल्लों में मवेशियों का जमावड़ा होने और सड़कों पर बैलों की लड़ाईयों के कारण लोगों की जान आफत में है. बीच बाजार व चौहारे पर बैलों की कुश्ती से कोई न कोई घायल व किसी न किसी की मौत की खबरें सुनने को मिलती हैं. लेकिन इन सब के बीच नगरपरिषद इन आवारा जानवरों की समस्या से निपटने के लिए कोई खास कवायद करती नजर नहीं आती है. इसी क्रम में 2018 में दो सांड़ों की लड़ाई में युवक की मौत हो गई थी. इस मामले में राजस्थान कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है. कोर्ट ने बूंदी नगर परिषद की संपत्ति कुर्क करके उक्त राशि का भुगतान करने के आदेश जारी किए हैं.

बता दें कि इससे पहले कोर्ट ने नगर परिषद बूंदी को आदेश दिया था कि वह पीड़ित परिवार को 23 लाख 62 हजार 500 रुपये का हर्जाना देगा. जिसके बाद अब संपत्ति कुर्क करके उक्त राशि का भुगतान करने का आदेश दिया है. कोर्ट के आदेश के बाद बूंदी नगर परिषद प्रशासन में हड़कंप मच गया.

 

जयपुर में घर खरीदने का सपना होगा पूरा, 21 लाख का शानदार फ्लैट मिलेगा 6 लाख में

 

कोर्ट ने दिया संपत्ति कुर्क करने का आदेश

बूंदी जिला न्यायालय के निर्देश पर गुरुवार को सेल अमीन ने नगर परिषद पहुंचकर आयुक्त को कुर्की का आदेश सौंपा. एडवोकेट कौशल किशोर शर्मा ने बताया कि, दो सांड़ों की लड़ाई में ब्रह्मपुरी निवासी मुकेश दीक्षित की मौत हो गयी थी. उनकी मां सुशीला देवी, पत्नी रानी दीक्षित की ओर से दी गई याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने नगर परिषद को मौत का जिम्मेदार ठहराया था. कोर्ट ने नौ जनवरी 2020 को मृतक के परिवार को 23 लाख 62 हजार 500 रुपये 6 प्रतिशत ब्याज के साथ हर्जाने के रूप में देने के आदेश दिए थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें