राजस्थान शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, ऑक्सीजन की कमी को करेंगे दूर, जानें कैसे

Smart News Team, Last updated: Tue, 11th May 2021, 10:31 AM IST
  • राजस्थान शिक्षा विभाग राज्य में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए बड़ा फैसला किया है. जिसके तहत राज्य के स्कूलों के प्रयोगशालों में पड़े ऑक्सीजन सिलेंडर को कोरोना मरीजों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा.
राजस्थान शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला ऑक्सीजन की कमी को करेंगे दूर, जानें कैसे

जयपुर. कोरोना माहमारी के करण लगातार कोविड मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है. जिसके कारण राजस्थान में कोरोना मरीजों को बेड और ऑक्सीजन बड़ी मुश्किल से ही मिल पा रहा है. जिसे देखते हुए प्रदेश के शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला लिया है. जिसके तहत वह हॉस्पिटल्स को ऑक्सीजन की उपलब्धता कराएंगे. इसके लिए वह सराकरी स्कूलों के प्रयोगशाला में पड़े ऑक्सीजन को मरीजो के उपचार में लाएंगे. जिसके लिए तमाम जिला शिक्षा अधिकारी और विद्यालयों को निर्देश जारी किया गया है. 

जारी किए गए निर्देश के अनुसार सभी स्कूलों को बताना होंगा कि उनके प्रयोगशाला में कितने ऑक्सीजन सिलेंडर है. साथ ही उसे शिक्षा विभाग को सौंपना भी होगा. दरअसल व्यवसायिक शिक्षा योजना के तहत राज्य में हेल्थ केयर ट्रेड संचालित 332 स्कूल के प्रयोगशाला में ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध है. जिसमे कुल 393 ऑक्सीजन सिलेंडर है. उनमें से 167 भरे हुए तो 226 सिलेंडर खाली पड़े है. उनमें भी 376 सिलेंडर बड़े जबकि 17 सिलेंडर छोटे वाले है. 

राजस्थान पुलिस ने जारी की सिपाही भर्ती 2019 परीक्षा की आंसर की, यहां देखें

मौजूदा समय को देखते हुए शिक्षा विभाग ने स्कूल के प्रयोगशाला में रखे ऑक्सीजन सिलेंडर को अस्पतालों को उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है. जिसके तहत जिला प्रशासन से समन्वय करके ऑक्सीजन सिलेंडर को हॉस्पिटल्स को उपलब्ध कराया जाएगा. जिसके लिए राज्य परियोजना निदेशक ने सभी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश भी जारी किया है. साथ ही इसका पूरा रिकॉर्ड भी परिषद को देने के लिए कहा है. वही स्कूल में रखे ऑक्सीजन सिलेंडर को हॉस्पिटल को देने से कुछ राहत जरूर मिलेगी.

केंद्र सरकार के स्तर पर होना चाहिए पूर्ण लॉकडाउन का फैसला: CM अशोक गहलोत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें