राजस्थान किसान जमीन नीलामी: CM का घेराव करने आए BJP सांसद किरोड़ी हिरासत में

Smart News Team, Last updated: Thu, 20th Jan 2022, 11:08 PM IST
  • राजस्थान किसानों की जमीन की नीलामी के मामले में बीजेपी सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा जयपुर में सीएम आवास का घेराव करने पहुंचे. हालांकि पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया.
हिरासत में लिए गए बीजेपी सांसद किरोड़ी लाल मीणा

जयपुर: राजस्थान में किसानों की जमीन नीलामी के मुद्दे पर राजनीति गर्माई हुई है. बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा गुरुवार को इस मुद्दे को लेकर सीएम हाउस का घेराव करने पहुंचे, तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया. हालांकि कुछ देर बाद उन्हें छोड़ दिया गया. इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बैंकों द्वारा किसानों की कृषि भूमि की नीलामी पर रोक लगा दी. सांसद किरोड़ी ने कहा कि सिर्फ रोक लगाने से कुछ नहीं होगा, गहलोत सरकार भूमि नीलामी को पूरी तरह निरस्त करे. साथ ही किसानों का कर्ज माफ करे.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को उन किसानों की कृषि भूमि की नीलामी रोकने के निर्देश दिए, जो राज्य में वाणिज्यिक बैंकों से लिए गए अपने कर्ज को चुकाने में असमर्थ थे. सरकार ने राजस्थान कृषि ऋण संचालन (कठिनाइयों का निवारण) अधिनियम, 1974 (रोडा एक्ट) के तहत भूमि की नीलामी पर रोक लगा दी है.

राजस्थान CM गहलोत का किसानों की कृषि भूमि की नीलामी रोकने का आदेश

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि राज्य सरकार ने सहकारी बैंकों का कर्ज माफ कर दिया है और केंद्र से वाणिज्यिक बैंकों से वन टाइम सेटलमेंट कर किसानों का कर्ज माफ करने का आग्रह किया है. राज्य सरकार इसमें भी अपना हिस्सा देने को तैयार है.

उन्होंने कहा, 'हमारी सरकार ने पांच एकड़ तक की कृषि भूमि वाले किसानों की जमीन की नीलामी पर रोक लगाने के लिए विधानसभा में एक विधेयक पारित किया था, लेकिन राज्यपाल की अनुमति नहीं मिलने से ये अभी तक कानून नहीं बन पाया है. इसी कारण राजस्थान में अभी ऐसी स्थिति पैदा हुई है. उन्होंने उम्मीद जताई कि इस बिल को जल्द ही मंजूरी मिल जाएगी, ताकि आगे नीलामी न हो सके.

महिला सिपाही पर आया SHO का दिल, कहा- एक रात मेरे नाम कर दो, लाइन हाजिर

भाजपा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को किसानों के साथ भूमि नीलामी प्रक्रिया को रद्द करने की मांग को लेकर सीएम आवास का घेराव करने की कोशिश की. हालांकि, पुलिस अधिकारियों ने मीणा को हिरासत में ले लिया और प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर कर दिया.

किरोड़ी ने कहा कि कांग्रेस ने अपने 2018 के चुनावी घोषणा पत्र में पूर्ण कर्जमाफी का वादा किया था, लेकिन नीलामी के नाम पर किसानों का अपमान किया गया. मीणा ने कहा कि कांग्रेस ने 10 दिनों में पूरी तरह से कर्जमाफी का वादा किया था, लेकिन इसके बावजूद जमीन की नीलामी और कुर्की कर दी गई.

दौसा में 800 से 1000 किसान, सवाई माधोपुर में 600 से 700, करौली में करीब 800 किसान, अलवर जिले के करीब 3000 किसान और धौलपुर-भरतपुर में सैकड़ों अन्य किसानों को उनकी जमीन कुर्क करने के लिए नोटिस चस्पा किए गए हैं. एक मोटे अनुमान के मुताबिक सहकारी बैंकों का 15 लाख किसानों का 10 हजार करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें