गहलोत सरकार महाशिवरात्रि पर देवस्थान में करा रही भागवत कथा का आयोजन, BJP ने कसा तंज

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Tue, 1st Mar 2022, 3:40 PM IST
  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार महाशिवरात्रि पर जयपुर में एक मंदिर में भागवत कथा का आयोजन करवा रही है. भागवत कथा के बाद कलश यात्रा भी की जाएगी. जिसमें राजस्थान सरकार के मंत्री भी शामिल होंगे. वहीं इसपर बीजेपी ने गहलोत सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि यह ऐसा करके अपनी नाकामियों से ध्यान हटाना चाहते हैं.
गहलोत सरकार महाशिवरात्रि पर देवस्थान में करा रही भागवत कथा का आयोजन

जयपुर. राजस्थान का विधानसभा चुनाव 2023 में होने वाले है. जिसके लिए राजस्थान की सभी दलों ने तैयारियों भी शुरू कर दी है. वहीं सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस अगले विधानसभा चुनाव के लिए सॉफ्ट हिंदुत्व का सहारा लेती नजर आ रही है. इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भगवत कथा का आयोजन करवा रहे है. जो जयपुर के एक मंदिर में शुरू की गई है. इस भागवत कथा को 1 मार्च यानी महाशिवरात्री से शुरू की गई है. वहीं इसके खुद कलश यात्रा में राजस्थान सरकार के मंत्री भी शामिल होंगे.

भागवत कथा के आयोजन कराने को लेकर विभाग के मंत्री शकुंतला रावत ने कहा कि इसे राज्य की भलाई के लिए किया जा रहा है. साथ ही कहा कि ऐसे आयोजन भी होने चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि सीएम एडहॉक गहलोत जब राजस्थान का बजट पेश कर रहे थे तो उस दौरान भी सभी वर्गों को साथ लेकर चलने और शांति एवं सद्भावना के बारे में कहा था. रावत ने आगे कहा कि यह तो सिर्फ शुरुआत है. आने वाले दिनों में सुंदर कांड, राम कथा और धार्मिक कार्यक्रम देवस्थान स्थित बड़े-बड़े मंदिरों में कराया जाएगा. कांग्रेस सभी धर्मों का आदर करने में विश्वास करती है.

राजस्थान: कर्मचारियों को जल्द मिलेगा पुरानी पेंशन स्कीम का लाभ, समझें पूरी गणित

मंत्री शकुंतला रावत ने आगे कहा कि यह आयोजन राजनीती से जुडी नहीं है बल्कि इसे राज्य की शांति और समृद्धि के लिए किया जा रहा है. बीजेपी लोगों को हमेश जाती और नाम के आदर पर बांटती है. नाम अलग-अलग हो सकते है लेकिन शक्ति तो एक ही है. राजस्थान सरकार का भागवत कथा कराने पर भाजपा के वरिष्ठ विधायक वासुदेव देवनानी ने कहा कि कांग्रेस अपनी नाकामियों से लोगों का ध्यान भटकना चाहती है. ऐसे कार्यक्रम कराकर बीजेपी के लोगों को लुभाना चाहती है, लेकिन वह इसमें कामयाब नहीं हो पाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें