राजस्थान सरकार ने लिया बड़ा फैसला, नई परियोजना में फ्लड इरिगेशन पर लगाई पाबंदी

Smart News Team, Last updated: Fri, 18th Sep 2020, 12:10 PM IST
  • प्रदेश में अब आने वाली सभी नई नहरी परियोजनाओं में केवल ड्रिप इरिगेशन और स्प्रिंकलर सिस्टम से ही सिंचाई की जा सकेगी.पूर्व में फ्लड इरिगेशन भी की जाती थी परन्तु अब फ्लड इरिगेशन पर रोक लगा दी गई है.
फ्लड इरिगेशन

प्रदेश में लागू नई परियोजनाओं से जिन विभिन्न इलाकों में नहर से पानी दिया जाएगा वहां फ्लड इरिगेशन पर पाबंदी रहेगी. पूर्व की परियोजनाओं में खुली सिंचाई पर रोक नहीं थी. परंतु अब नई सिंचाई परियोजनाओं के तहत बनने वाले नहरी सिंचाई क्षेत्र में केवल ड्रिप इरिगेशन सिस्टम और स्प्रिंकलर से सिंचाई की जा सकेगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जल संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक में नहरी सिंचाई क्षेत्रों में केवल ड्रिप और स्प्रिंकलर से ही सिंचाई करने के नियम को लागू करने के निर्देश दिए हैं.

अब लागू होगा सांचौर मॉडल

प्रदेश में नई नहरी सिंचाई परियोजनाओं के नये सिंचाई क्षेत्रों में अब सांचौर मॉडल पर केवल ड्रिप और स्प्रिंकलर से ही सिंचाई का नियम लागू होगा. जालोर जिले में सांचौर के नर्मदा सिंचाई प्रोजेक्ट के सिंचाई क्षेत्र में केवल ड्रिप और स्प्रिंकलर से ही सिंचाई का प्रावधान है. सांचौर नहर में परंपरागत नहरी सिस्टम की तरह खुली सिंचाई नहीं है. राजस्थान की यह पहली सिंचाई परियोजना है जिसमें फ्लड इरिगेशन बंद किया गया था. अब सांचौर मॉडल को हर नई सिंचाई परियोजना में लागू किए जाने की तैयारी की जा रही हैं, क्योंकि नहरी पानी से परंपररागत फ्लड इरिगेशन से सिंचाई करने से पानी की बर्बादी ज्यादा होती है. परंपरागत नहरी तंत्र में पानी नहर से वितरिकाओं में से होता हुआ किसानों के खेत तक जाता है. इस पूरी प्रक्रिया में पानी की बहुत बर्बादी होती है. जबकि नये सिस्टम में नहर की वितरिका से पाइप से पानी दिया जाएगा. इसमें पानी की बचत भी होगी.

मुख्यमंत्री गहलोत ने लंबित पड़े प्रोजेक्ट्स में तेजी लाने के दिये आदेश

सीएम ने परवन परियोजना, ईसरदा बांध और धौलपुर लिफ्ट परियोजना की समीक्षा कर इन परियोजनाओं को समयबद्ध तरीके से पूरा करने के निर्देश भी दिए. बैठक में बताया गया कि मरम्मत और अपग्रेडेशन के लिए 7 बांधों की निविदायें तथा 6 बांधों की डीपीआर बनाकर केन्द्रीय जल आयोग को भेजी गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें