राजस्थान हाईकोर्ट ने तृतीय श्रेणी शिक्षक पद पर पदावनत पर लगाई अंतरिम रोक

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Jul 2021, 5:24 PM IST
  • राजस्थान हाईकोर्ट ने तृतीय श्रेणी शिक्षक पद पर पदावनत करने पर अंतरिम रोक लगा दी है। इस संबंध में कोर्ट ने प्रमुख शिक्षा सचिव और माध्यमिक शिक्षा निदेशक समेत कई अधिकारियों को नोटिस जारी जवाब मांगा है. 
राजस्थान हाईकोर्ट ने तृतीय श्रेणी शिक्षक पद पर पदावनत के मामले में प्रमुख शिक्षा सचिव और माध्यमिक शिक्षा निदेशक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.(फाइल फोटो)

जयपुर. वरिष्ठ अध्यापक पद पर पदोन्नति के तीन साल बाद शिक्षकों को तृतीय श्रेणी शिक्षक पद पर पदावनत करने पर राजस्थान हाईकोर्ट ने अंतरिम रोक लगा दी है। कोर्ट ने प्रमुख शिक्षा सचिव और माध्यमिक शिक्षा निदेशक सहित अन्य से जवाब मांगा है।

गिर्राज प्रसाद मीणा व अन्य के अधिवक्ता हनुमान चौधरी ने बताया कि याचिकाकर्ताओं का चयन तृतीय श्रेणी शिक्षक पद पर हुआ था। उन्होंने मेवाड़ विश्वविद्यालय से अतिरिक्त विषय की डिग्री ले ली। विभाग की ओर से उन्हें वर्ष 2018 की रिक्तियों के विरूद्ध वरिष्ठ अध्यापक पद पर पदोन्नत भी कर दिया गया। 

राजस्थान में इस जगह बनेगा दुनिया का तीसरा बड़ा क्रिकेट स्टेडियम

याचिका में कहा गया कि विभाग ने गत दिनों एक आदेश जारी कर कहा कि मेवाड़ विश्वविद्यालय का पाठ्यक्रम तीन माह का प्रमाण पत्र कोर्स है। जबकि पदोन्नति के लिए संबंधित विषय से स्नातक या समकक्ष होना जरूरी है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें