नाबालिग बच्ची रेप केस में 18 घंटे में आरोपी गिरफ्तार, 5 दिन में सुनवाई पूरी, 20 साल सजा

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 4:22 PM IST
  • जयपुर में एक 9 साल से बेटी से बच्ची से रेप के मामले में पुलिस ने 18 घंटे में आरोपी को गिरफ्तार किया. वहीं, इस मामले में कोर्ट ने 5 दिन में सुनवाई पूरी करके आरोपी को 20 साल की सजा सुनाई. राजस्थान के इतिहास में पहली बार किसी मामले में इतनी जल्दी सजा सुनाई गई.
बच्ची से रेप के मामले में 18 घंटे में आरोपी की गिरफ्तार, 5 दिन में सुनवाई पूरी कर हुई 20 साल की सजा

जयपुर. राजस्थान के जयपुर की कोर्ट और पुलिस ने इतिहास रचते हुए किसी पॉक्सो एक्ट के मामले में आरोपी को 5 दिन में गिरफ्तार करके सजा सुनवाई. जयपुर के कोटखवाड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत 25 साल के कमलेश मीणा पर उसकी खुद की 9 साल की बेटी के साथ बच्ची से रेप करने और गला घोंटने की कोशिश करने की शिकायत दर्ज की गई. जिसमें कार्रवाई करते हुए पॉक्सो एक्ट के तहत उसे गिरफ्तार किया गया.

मामला दर्ज होने के बाद 150 पुलिसकर्मियों की टीम को लगाया

जयपुर दक्षिण के पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार ने बताया कि 26 सितंबर को देर शाम एक बच्ची से रेप करने और गला घोंटने की कोशिश का मामला दर्ज किया गया. जिसमें 9 साल की बेटी के पिता ने ही उसके साथ रेप करके उसका गला घोंटने का प्रयास किया. इस दौरान मामले की गंभीरता को देखते हुए अलग-अलग टीमों का गठन किया गया. जिसमें 150 पुलिसकर्मी आरोपी की गिरफ्तार में लगे रहे.

CM गहलोत से देर रात बात करके माने राजस्व कर्मी, आंदोलन वापस लेने का किया ऐलान

18 घंटे में गिरफ्तारी कर दाखिल की चार्जशीट

इस मामले में पुलिस कर्मियों ने लगातार छापेमारी करके 18 घंटे में आरोपी कमलेश की गिरफ्तारी करके चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी. वहीं, इस मामले में 5 दिनों के भीतर मामले की कोर्ट में सुनवाई होकर आरोपी को सजा सुना दी गई. जो राजस्थान के न्यायिक इतिहास में शायद पहला मामला है.

मुख्यमंत्री चन्नी आज राजस्थान में करेंगे गहलोत से मुलाकात, दोपहरी भोज के साथ इन मुद्दों पर होगी चर्चा

19 गवाहों ने दिए बयान हुई 20 साल की सजा

इस मामले में चार्जशीट दाखिल होने के बाद पॉक्सो कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई. जिसमें करीब इस मामले में 19 लोगों ने अपने बयान दिए और वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए पीड़ित बेटी के बयान दर्ज कराए गए और आरोपी को कोर्ट ने 5 दिन के अंदर मामले की सुनवाई करके 20 साल की सजा सुनाई.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें