राजस्थान हाउसिंग बोर्ड आधी कीमत पर बेच रहा घर, पॉश इलाके में भी कई फ्लैट

Smart News Team, Last updated: Fri, 9th Jul 2021, 9:37 AM IST
  • राजस्थान हाउसिंग बोर्ड अपने यहां बचे हुए मकानों को ऑनलाइन ओपन नीलामी के जरिए बेचने का फैसला किया गया है. बताया जा रहा है कि इस फ्लैट्स को आधे रेट पर बेचा जा रहा है. कोरोना संक्रमण के चलते बोर्ड प्रशासन ने अब इन्हें 50% तक की छूट पर देने का निर्णय किया है.
राजस्थान हाउसिंग बोर्ड आधी कीमत पर बेच रहा घर

राजस्थान हाउसिंग बोर्ड की तरफ से एक बड़ा फैसला लिया गया है. बताया जा रहा है कि राजस्थान हाउसिंग बोर्ड अपने यहां बचे मकानों को 19 जुलाई से ऑनलाइन ओपन नीलामी के जरिए बेचे जा रहे हैं. कोरोना काल करीब डेढ़ साल इनमें से ज्यादा तर मकानों को बोर्ड प्रशासन ने 25% तक की छूट पर बेचने का प्रयास किया था, लेकिन सफलता नहीं मिली. इसके बाद बोर्ड प्रशासन ने अब इन्हें 50% तक की छूट पर देने का निर्णय लिया है. 

साथ ही बताया जा रहा है कि इन मकानों के लिए एकमुश्त पैसे न देकर 10 फीसदी रकम पर ही कब्जा मिल जाएगा. इसके अलावा खास बात ये भी है कि बचे हुए 90 फीसदी रकम 13 साल का समय किस्तों में अदा की जा सकती हैं. इसके अलावा बताया जा रहा है कि जयपुर के प्रताप नगर, इंदिरा गांधी नगर, कोटपूतली के अलावा भरतपुर, डूंगरपुर और अलवर के भिवाड़ी शहर में ये मकान हैं, जिन्हें ई-नीलामी के जरिए बेचा जाएगा. 

जयपुर: 27 साल से साधु के वेश में छिपे अपराधी का पुलिस ने शिष्य बनकर किया खुलासा

साथ ही इन मकानों के लिए हर सोमवार से बुधवार शाम 4 बजे तक बिड लगाई जा सकेगी. ये बिड ऑनलाइन ही 19 जुलाई से शुरू होगी, जिसके लिए आवेदक को पहले प्री-रजिस्ट्रेशन कराना होगा. बता दें कि जयपुर के प्रताप नगर स्थित द्वारकापुरी अपार्टमेंट में 1111 फ्लैट इस बिड में बेचे जाएंगे. ये फ्लैट करीब 4 से 5 साल पहले आवंटियों को करीब 10 लाख रुपए में आवंटित किए गए थे. 

अब इन्हीं में से बचे फ्लैट्स को हाउसिंग बोर्ड 6 लाख रुपए की कीमत पर बेचने के लिए बिड शुरू कराएगा. साल 2006 में जब आवेदन मांगे गए थे, तब लोगों को इसकी अनुमानित लागत 2.85 लाख रुपए बताई थी, लेकिन प्रोजेक्ट लेट होने के कारण बाद में इन्हीं फ्लैट्स के हाउसिंग बोर्ड ने आवंटियों से 6 से लेकर 10 लाख रुपए तक लिए थे.

राजस्थान पटवारी परीक्षा कैंडिडेट्स के लिए खुशखबरी, RPSC ने बढ़ाए 957 पद

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें