IPS अधिकारी दलित दूल्हे की बिंदौरी के लिए छावनी बना गांव, दबंगों का खौफ, चप्पे-चप्पे पर पुलिस

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 17th Feb 2022, 11:42 AM IST
  • राजस्थान के जयपुर के शाहपुरा के समीप भाबरू थाने के भगतपुरा जयसिंहपुरा में दलित आईपीएस सुनील कुमार धनवंता की बिंदौरी के लिए पूरे गांव को छावनी में बदल दिया गया. दबंगों के खौफ की वजह से चप्पे चप्पे पर प्रशासन और पुलिस का पहरा दिखा.
सुनील कुमार धनवंता की बिंदौरी

जयपुर. राजस्थान के एक गांव में दूल्हे की बिंदौरी चर्चा का विषय बनी हुई है. यह चर्चा इसलिए भी की जा रही है कि क्योंकि यह दूल्हा कोई और नहीं बल्कि एक आईपीएस अधिकारी थी. जयपुर जिले के शाहपुरा इलाके के भाबरू थाने इलाके के भगतपुरा जयसिंहपुरा गांव निवासी दलित आईपीएस अधिकारी सुनील कुमार धनवंता की बिंदौरी के लिए पूरा गांव छावनी में तब्दील हो गया था. इस दूल्हे की बिंदौरी के गांव के चप्पे चप्पे पर लिए भारी पुलिस और प्रशासन के अधिकारी तैनात. इतना ही नहीं बिंदौरी के समय पुलिस के जवान दूल्हे के साथ साथ भी चले थे और दबंगों के खौफ के चलते पुलिस-प्रशासन ने पूरे गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया. इस दौरान गांव के हर कोने में पुलिस का पहरा दिख रहा था.

बता दें कि राजस्थान में शादियों के समय में अक्सर घोड़ी पर बैठकर शादी करने आए दलितों के साथ गांवो में मारपीट की घटनाएं होती हैं. इसी की चलते जयिसंहपुरा गांव में दबंगों के खौफ की वजह से दलित आईपीएस सुनील कुमार धनवंता की बिंदौरी के लिए एडीएम समेत कई अधिकारी गांव में दिनभर तैनात रहे. इसके बाद दुल्हे ने धूम धड़ाके के साथ नाचते गाते परिवार वालों के साथ घोड़ी पर बिंदौरी निकाली.

राजस्थानः तीन दशक बाद घोड़ी पर निकली दलित की बारात, जमकर उमड़ी भीड़

राजस्थान में शादियों के समय पर दबंगों और दलितों में गांव में बारात निकालने को लेकर टकराव होते रहते हैं. हाल ही में इसी इलाके में एक गांव में दलित युवक की शादी समारोह में दूल्हे पर पथराव हुआ था. इसलिए इस घटना को देखते हुए पुलिस और प्रशासन भी अलर्ट मोड पर है. वहीं हाल ही में राजस्थान के एक गांव में तीन दशक बाद घोड़ी पर दलित की बारात निकली थी जिसे देखने के लिए काफी भीड़ उमड़ी थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें