राजस्थान में नौकरी लगने के बाद भी लोग ले रहे बेरोजगारी भत्ता, ऐसे हुआ खुलासा

Nawab Ali, Last updated: Tue, 7th Sep 2021, 3:59 PM IST
  • राजस्थान में बेरोजगारी भत्ता योजना में बड़े भ्रष्टाचार का खुलासा हुआ है. राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पढ़े-लिखे बेरोजगार युवाओं को भत्ता देती है. लेकिन नौकरी लगने के बाद भी कई लोगों द्वारा बेरोजगारी भत्ते का फायदा उठाया जा रहा है.
राजस्थान में बेरोजगारी भत्ते में भ्रष्टाचार का खुलासा हुआ है. (फाइल फोटो)

जयपुर. राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार पढ़े-लिखे युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देती है. लेकिन यह योजना भी भ्रष्टाचार की बलि चढ़ गई गई. जी हां राजस्थान में ऐसे लोग भी बेरोजगारी भत्ते का फायदा उठा रहे हैं जिन्हें बाद में नौकरी भी मिल गई. इस योजना का लाभ उठाकर बेरोगार युवाओं के हक पर डाका मारा जा रहा है. आधार कार्ड से डाटा मिलाने के बाद इस भ्रष्टाचार का का खुलासा हुआ है.  विभाग को जब इस मामले की जानकारी हुई तो सभी अधिकारी हैरान हो गए. 

राजस्थान में बेरोजगारी भत्ते में बड़े भ्रस्टाचार का मामला सामने आया है. पढ़े-लिखे युवाओं को नौकरी मिलने के बाद भी बेरोजगारी भत्ते का लाभ मिल रहा है. नौकरी करने के बाद भी बेरोजगारी भत्ता लेने पर विभाग के अधिकारीयों  की बड़ी लापरवाही सामने आई है. अब विभाग द्वारा बेरोजगारी भत्ते का फायदे ले रहे लोगों का हर दो महीने में वेरिफिकेशन करेगा. राजस्थान कौशल एवं आजीविका मिशन बिगम ने स्टेट इंश्योरेंस एवं प्रोविडेंट फंड से दाता का मिलान किया तो भ्रष्टाचार का खुलासा सामने आया है. मामले में खुलासा हुआ है की कई लोग ऐसे हैं जो सरकारी शिक्षक की नौकरी लगने के बाद भी बेरोजगारी भत्ते का लाभ ले रहे हैं.

जयपुर: शिक्षा विभाग के अफसरों पर ACB का एक्शन, 45 हजार रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा

श्रम एवं रोजगार विभाग के सचिव नीरज के पवन ने कहा है कि नौकरी लगने के बावजूद भी बेरोजगारी भत्ते का लाभ ले रहे लोगों को लेकर विभाग द्वारा वेरीफिकेशन की कार्रवाई शुरू करा दी है. ऐसे मामले दोबारा न हो इसके लिए विभाग सतर्क हो गया है. विभाग द्वारा ऐसे लोगों की हर महीने 2 फीसदी लोगों का वेरीफीकेशन किया जायेगा. अगर बात की जाए तो राजस्थान में इस वक्त 1 लाख 60 हजार लोगो बेरोजगारी भत्ते का फायदा ले रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें