नेताओं-अधिकारियों की आवाज निकालकर व्यापारियों से लाखों की ठगी करने वाला मिमिक्रीबाज गिरफ्तार

Deepakshi Sharma, Last updated: Tue, 14th Sep 2021, 3:29 PM IST
  • जयपुर में 8वीं पास एक ऐसा आरोपी गिरफ्तार हुआ है जोकि राजनेताओं और बिजनेसमैन की मिमिक्री करके अमीर लोगों को ठगने का काम किया करता था. इस वक्त वो 5 दिनो की पुलिस रिमांड पर है.
मिमिक्री करके करोड़ों ठगने वाला आरोपी गिरफ्तार

जयपुर. जबरदस्त इंग्लिश बोलने वाले 8वीं पास एक ठगी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. मिमिक्री करके वो अमीर लोगों को चूना लगाने का काम किया करता था. मामले की जांच में ये सामने आया कि आरोपी नेताओं, मजिस्ट्रेट, पुलिस अधिकारी की वो आवाज निकालकर एक बार में ही 10 से 35 लाख ठग लेता था. वो कम से कम 100 से ज्यादा लोगों से करोड़ों रुपये अब तक ठग चुका है. इस वक्त वो 5 दिनों की पुलिस रिमांड में है.

जयपुर के माणक चौक थानाधिकारी सुरेंद्र यादव की माने तो 34 वर्ष का सुरेश कुमार घांची उर्फ भैराराम बेहद शातिर का किस्म का मिमिक्री क्रिमिनल है. अजमेर जिले के ब्यावर से आरोपी गिरफ्तार हुआ है. 7 सितबंर को आरोपी ने सर्राफा ट्रेडर्स कमेटी जयपुर के अध्यक्ष और ज्वेलर कारोबारी कैलाश मित्तल के नंबर पर फोन मिलाया था. आरोपी ने कैलाश मित्तल को माणक चौक इंचार्ज सुरेंद्र यादव बनकर फोन किया था. थानाधिकारी की मिमिक्री करके ज्वैलर्स से जरूरी काम बातकर साढ़े तीन लाख रुपये मांगने का काम किया. कैलाश ने रुपये भेज दिए. बाद में फिर कैशाल मित्तल ने थानाधिकारी सुरेंद्र यादव से बात को तो पूरे मामले की जानकारी सबके सामने आई. पुलिस ने मोबाइल नंबर की डिटेल निकाली और आरोपी की लोकेशन ट्रेस की. बाद में फिर आरोपी को गिरफ्तारी किया गया.

शादी के तीसरे दिन मायके पहुंचकर दुल्हन ने दूल्हे से फोन पर मांगा तलाक, वजह जानकर चौंक जाएंगे

जब पुलिस ने पूछताछ की तो ठगी के और भी कई मामले सामने आए. जयपुर में 10 से ज्यादा और राजस्थान में 100 से अधिक कारोबारियों, राजनेताओं और मजिस्ट्रेट के नाम पर वो ठगी कर चुका है. राजस्थआन में 60 से अधिक मामले उसके खिलाफ दर्ज है. सुरेश ने बांसवाड़ा में मिमिक्री करके एक बिजनेसमैन को ठगने का काम उसने किया था. आरोपी ने बिजनेसमैन से 35 लाख रुपये ठगे थे. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया था. वो इस मामले में 13 महीने तक जेल में रहा था. वो 15 दिन पहले ही जमानत पर छोड़ा गया था. जब उसे दोबारा पैसों की जरूरत पड़ी तो उसने ये काम फिर से किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें