सांस की दिक्कत पर घुटने का ऑपरेशन, बिना बीमारी के कर दी सर्जरी, अस्पताल पर FIR

Smart News Team, Last updated: Wed, 22nd Dec 2021, 5:08 PM IST
  • जयपुर के रजत अस्पताल पर चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत पैसा उठाने के लिए मरीजों के गलत ऑपरेशन करने के आरोप लगे हैं. करणी विहार थाना पुलिस ने निजी अस्पताल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने जांच टीम भी गठित की है.
जयपुर के निजी अस्पताल पर गलत सर्जरी करने के गंभीर आरोप (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: कोरोना काल में निजी अस्पतालों द्वारा मरीजों से लूट के हमने कई किस्से सुने. मगर जयपुर के एक निजी अस्पताल ने तो हद कर दी. राजस्थान सरकार द्वारा चलाई जा रही मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना के तहत स्वास्थ्य बीमा का पैसा उठाने के लिए डॉक्टरों ने एक महिला का बिना बीमारी के ही ऑपरेशन कर दिया. एक अन्य बुजुर्ग महिला के सीने में दर्द था तो उसकी घुटने की सर्जरी कर दी. एक शख्स को पथरी की शिकायत थी, तो उसकी रीढ़ की हड्डी का ऑपरेशन कर दिया. ये आरोप जयपुर के रजत अस्पताल पर लगे हैं. 

करणी विहार थाना पुलिस को अस्पताल प्रशासन के खिलाफ शिकायत मिली है. पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है. मामले की गूंज प्रशासन तक पहुंच गई है. सीएमएचओ डॉ. नरोत्तम शर्मा ने जांच के लिए टीम गठित की है. दरअसल, मंगलवार को रजत अस्पताल में मरीजों और उनके परिजन ने हंगामा कर दिया. 

राजस्थान में फिर बढ़ा खतरा, जयपुर में कोरोना ओमिक्रॉन वैरिएंट के 4 नए केस मिले

अजमेर जिले के मसूदा की रहने वाली 70 साल की एक महिला ने कहा कि उनकी सांस फूलने की दिक्कत थी. मगर डॉक्टरों ने उनका जबरन घुटने का ऑपरेशन कर दिया. बुजुर्ग महिला ने कहा कि उन्होंने डॉक्टरों के सामने हाथ-पैर जोड़े और रोई भी, मगर उनकी एक नहीं सुनी गई. उनसे बीमा क्लैम के पेपर पर अंगूठा लगाकर साइन भी करवा दिए गए.

लंबे विवाद के बाद सुलझा जयपुर राजघराने का विवाद, जानिए क्या रहा फैसला

अजमेर जिले की ही रहने वाली 35 साल की एक अन्य महिला ने भी अस्पताल पर गंभीर आरोप लगाए. महिला ने कहा कि उसके पति को पथरी की शिकायत थी. वह पति को अस्पताल लेकर आई. अस्पताल प्रशासन ने जबरन उसकी एमआईआरआई कर दी और कहा कि पति-पत्नी दोनों का ऑपरेशन करना पड़ेगा, नहीं तो एमआरआई के 7000 रुपये चुकाने होंगे. इसके बाद डॉक्टरों ने इंजेक्शन के नाम पर पति के रीढ़ की हड्डी पर और पत्नी की रीढ़ की हड्डी पर चीरा लगा दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें