राजस्थान पंचायत चुनाव : पीसीसी चीफ डोटासरा सहित कई मंत्री भी अपने जिले में फेल

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 11:20 AM IST
  • कांग्रेस सरकार के अधिकतर मंत्री अपने जिलों में पार्टी को जीत नहीं दिला सके. कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा अपने जिले सीकर में पार्टी को जीत नहीं दिला पाए. वहीं, मंत्री रघु शर्मा,  मंत्री सुखराम बिश्नोई, मंत्री अशोक चांदना, मंत्री उदयलाल आंजना भी अपने जिलों में कांग्रेस को जीत नहीं दिलवा सके.
राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद डोटासरा

जयपुर. राजस्थान के 21 जिलों में जिला परिषद और पंचायत समिति के चुनाव में कांग्रेस सरकार के अधिकतर मंत्री अपने जिलों में पार्टी को जीत नहीं दिला सके. सबसे बड़ी बात यह है कि खुद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा अपने जिले सीकर में पार्टी को जीत नहीं दिला पाए. वहीं, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा अजमेर में, वन मंत्री सुखराम बिश्नोई सिरोही में, खेल मंत्री अशोक चांदना बंदी में, सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना चित्तौडगढ़ में और हरीश चौधरी बाड़मेर में पार्टी का जिला प्रमुख नहीं बनवा सके. गौरतलब है कि चुनावों में 10 मंत्रियों की साख दांव पर थी. इनमें से चार मंत्री ही अपनी प्रतिष्ठा बचा सके हैं. 

हालांकि बाड़मेर में भाजपा और कांग्रेस को बराबर सीट मिली है. ऐसे में वहां पर एक सीट पर जीत हासिल कर आए आरएलपी के उम्मीदवार पर निर्भर करेगा कि वहां कौन जिला प्रमुख होगा और किसका बोर्ड बनेगा? इतना ही नहीं, राजस्थान के पंचायत चुनाव प्रचार में केंद्रीय मंत्रियों ने भी भाजपा उम्मीदवारों को जिताने के लिए अपनी ताकत चुनाव प्रचार में झोंक रखी थी. लेकिन, वे भी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके हैं. केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल के बेटे रवि मेघवाल ने भी चुनाव लड़ा था, लेकिन वे चुनाव हार गए. केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी बाड़मेर जिला परिषद में भाजपा का स्पष्ट बहुमत के साथ बोर्ड नहीं बनवा सके हैं.

राजस्थान पंचायत चुनाव : 13 जिलों में खिला 'कमल', पांच जिलों ने थामा 'हाथ'

इनका प्रदर्शन रहा अच्छा : राजस्थान में कांग्रेस की बात करें तो बांसवाड़ा में जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री अर्जुन बामणिया, जैसलमेर में अल्पसंख्यक मामलात मंत्री शाले मोहम्मद, बीकानेर में उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी और ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला जिला परिषद में पार्टी को जीत दिलाने में सफल रहे हैं. वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के जिले झालावाड़ में भाजपा का प्रदर्शन बेहतर रहा है. यहां जिला परिषद चुनाव में भाजपा ने जीत हासिल की है. इसके साथ ही 8 में से 5 पंचायत समितियों में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिला है. नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने अपने गृह क्षेत्र उदयपुर के जिला परिषद में भाजपा को अच्छी जीत दिलाई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें