राजस्थान में पेट्रोल पंप संचालक करेंगे हड़ताल, जानें क्यों दी सरकार को चेतावनी

Smart News Team, Last updated: Mon, 5th Apr 2021, 3:21 PM IST
  • पड़ोसी राज्य से डीजल की तस्करी के कारण राजस्थान के पेट्रोल पंप संचालको ने 10 अप्रैल को हड़ताल करने की चेतावनी दी है. पंप संचालक ने आरोप लगाया है कि पड़ोसी राज्य में तेल के दाम कम होने से वहां से डीजल लाकर राजस्थान में बेचा जा रहा है. बता दें कि 26 फीसदी वैट के कारण राजस्थान में डीजल 7 से 8 रुपए मंहगा है.
राजस्थान के पेट्रोल पंप संचालकों ने सरकार को दी हड़ताल की चेतावनी.( सांकेतिक फोटो )

जयपुर: साल 2021 के शुरुआत से देशभर में पेट्रोल और डीजल के दामों बढ़ोत्तरी हुई है. पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश, हरियाणा और गुजरात में तेल सस्ता होने के राजस्थान में डीजल की लगातार तस्करी हो रही है. तस्करी के कारण राज्य के सीमावर्ती जिलों के पेट्रोल पम्प बंद होने की कगार पर पहुंच गए है. जानकारी के अनुसार, पिछले एक वर्ष में पड़ोसी राज्यों से लाकर करीब 22 लाख लीटर डीजल की राज्य में बेचा जा चुका है. पड़ोसी राज्य के मुकाबले ज्यादा वैट होने के कारण पम्प संचालक परेशान है. सभी पंप संचालकों ने 10 अप्रैल को हड़ताल करने की चेतावनी दी है.

राज्य के पंप संचालकों का कहना है कि पड़ोसी राज्य में डीजल राजस्थान के मुकाबले सस्ता है. इसी कारण लोग इन राज्य से लगातार तेल की तस्करी कर रहे है जिससे पंप संचालकों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. बता दें कि राजस्थान में पेट्रोल पर 36 व डीजल पर 26 फीसदी वैट है. इस कारण राजस्थान में पड़ोसी राज्य के मुकाबले तेल 7 से 8 रुपये प्रति लीटर मंहगा है. पंप मालिकों ने गहलोत सरकार से राज्य में वैट को कम करने की अपील की है.

कोरोना की दूसरी लहर से फिर से बेपटरी हुआ पर्यटन कारोबार

पंप संचालकों ने बताया कि उत्तर प्रदेश से भरतपुर और धौलपुर के रास्ते डीजल की तस्करी की जाती है, तो वहीं हरियाणा से अलवर, झुंझुनूं, चूरू के रास्ते राजस्थान में डीजल लाया जाता है. इसके अलावा सिरोही, बांसवाड़ा और डूंगरपुर के रास्ते भी गुजरात से चोरी-छीपे डीजल को लाने मामले सामने आ रही है. पंप संचालको ने अपील की है, कि यदि राज्य सरकार ने जल्द ही कोई ठोस कदम नहीं उठाए, तो सभी संचालक 10 अप्रैल को हड़ताल करेंगे.

राजस्थान में इंटर टॉप करने वाली बेटी को विदेश में पढ़ाई का मौका देगी गहलोत सरकार

प्रदेश में भूजल का हाल खराब, 29 जिले आए अतिदोहित श्रेणी में

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें